--Advertisement--

बिटकॉइन मामले में धारी के पूर्व विधायक कोटडिया भगोड़ा घोषित

एक महीने के भीतर पेश नहीं हुए तो संपत्ति होगी कुर्क : डीजीपी

Danik Bhaskar | Jun 19, 2018, 02:27 PM IST
नलिन कोटडिया नलिन कोटडिया
  • कोटड़िया पर कसा शिकंजा।
  • जीपीपी से चुनाव जीतकर भाजपा में शामिल हो गए थे।

अहमदाबाद। सनसनीखेज बिटकॉइन लूट और अपहरण मामले के आरोपी पूर्व विधायक नलिन कोटडिया को सोमवार को भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की विशेष अदालत ने भगोड़ा घोषित कर दिया। ब्यूरो के विशेष जज पीजे तमाखूवाला की अदालत ने धारी से गुजरात परिवर्तन पार्टी की टिकट पर चुनाव जीतने के बाद भाजपा में शामिल हुए पूर्व विधायक नलिन कोटडिया को एक माह के भीतर उनके समक्ष पेश होने को कहा है। सम्पत्ति होगी कुर्क...

मामले की जांच कर रही सीआईडी-क्राइम के डीजीपी आशीष भाटिया ने बताया कि अगर नलिन कोटडिया अदालत के समक्ष तय समय सीमा में पेश नहीं हुए तो उनकी संपत्ति कुर्क करने की कार्रवाई हो सकती है। उन्होंने यह भी बताया कि इस मामले में मुख्य शिकायतकर्ता और सूरत के बिल्डर शैलेश भट्ट, जो बाद में इसी से जुड़े मामले में मुख्य आरोपी पाया गया, की धरपकड़ के प्रयास जारी हैं। अब तक उसे भगोड़ा घोषित करने के लिए अदालत का दरवाजा नहीं खटखटाया गया है। अगर वह भी लंबे समय तक फरार रहा तो उसके मामले में भी ऐसा किया जाएगा।

एसपी समेत कई पुलिस अधिकारी पकड़े जा चुके हैं

नलिन कोटडिया पर इस साल फरवरी में शैलेष भट्ट का अपहरण कराने और उससे जबरन करोड़ों रुपए के बिटकॉइन हड़पने के षड्यंत्र में शामिल रहने का आरोप है। इस मामले में अमरेली के तत्कालीन एसपी जगदीश पटेल, स्थानीय अपराध शाखा के इंस्पेक्टर अनंत पटेल समेत कई लोग पहले ही पकड़े जा चुके हैं। मामले की जांच के दौरान शैलेष भट्ट के खुद भी बड़े पैमाने पर बिटकॉइन धोखाधड़ी मामले में शामिल रहने का पता चला। वह तब से फरार हैं।