--Advertisement--

बिटकॉइन मामला: पूर्व विधायक काेटड़िया सात दिन के सीआईडी रिमांड पर

बिट कॉइन के बंटवारे में 66 लाख में से 35 लाख काेटड़िया को चुकाए गए थे

Danik Bhaskar | Sep 11, 2018, 03:18 PM IST
नलिन कोटड़िया नलिन कोटड़िया

अहमदाबाद। अहमदाबाद की एक विशेष अदालत ने आज सनसनीखेज बिटकॉइन अपहरण और लूट मामले में लगभग तीन माह की फरारी के बाद महाराष्ट्र से गिरफ्तार किए गए पूर्व भाजपा विधायक नलिन कोटड़िया को सोमवार को आगे की पूछताछ के लिए मामले की जांच कर रही सीआईडी-क्राइम को सात दिन की रिमांड पर सौंप दिया। जलगांव जिले के अमलनेर में पकड़े गए कोटड़िया...

जांच अधिकारी अजीज सैयद ने बताया कि रविवार को महाराष्ट्र के जलगांव जिले के अमलनेर से पकड़े गए कोटड़िया को यहां एक विशेष अदालत में पेश किया गया जिसने 17 सितंबर तक उनके रिमांड को मंजूर कर लिया। सूरत के बिल्डर शैलेश भट्ट को गत फरवरी माह में कथित तौर पर अमरेली पुलिस की मदद से अगवा कर उनके पास से बिट कॉइन हड़पने से जुड़े इस मामले में गत 18 जून को यहां की एक विशेष अदालत ने कोटड़िया को भगोड़ा घोषित किया था। वह कई बार समन और वारंट जारी होने के बावजूद पुलिस के समक्ष पेश नहीं हुए थे।

बिट कॉइन के बंटवारे में 66 लाख में से 35 लाख काेटड़िया को चुकाए गए थे

बिट कॉइन में फंसाए जाने का राग अलापने वाले धारी के पूर्व विधायक नलिन कोटड़िया सूरत के बिल्डर के शैलेष भट्‌ट से बिट कॉइन छीनने के मामले में शामिल पाए गए हैं। शैलेष भट्‌ट से छीनी गई रकम से नलिन कोटड़िया को 66 लाख रुपए मिलने वाले थे जिसमें से 35 लाख रुपए चुका दिए गए थे। सीआईडी ने इसमें से 25 लाख रुपए जब्त किया है। सीआईडी ने बताया कि शैलेष भट्‌ट की शिकायत में नलिन कोटड़िया का नाम भी सामने आया था। सीआईडी ने नलिन कोटड़या को समन भी भेजा था। सीआईडी के सामने हाजिर होने के बदले नलिन कोटड़िया अखबारों के माध्यम से खुद को निर्दोष बताते रहे। सीआईडी क्राइम ने बताया कि नलिन कोटड़िया शैलेष से बिट काॅइन छीनने में शामिल थे।

सूरत के सर्किट हाउस में की थी बैठक

शैलेष भट्‌ट के पास बिट कॉइन की जानकारी होने पर उसका अपहरण कर रकम हड़पने के लिए नलिन कोटड़िया ने सहआरोपियों केतन पटेल और किरीट पालड़िया के साथ सूरत के सर्किट हाउस में बैठक की थी। नलिन कोटड़िया ने सर्किट हाउस में ही पूरी योजना बनाई थी। इसके बाद अमरेली के एसपी जगदीश पटेल, इंस्पेक्टर अनंत पटेल के सहयोग से योजना को अंजाम दिया। इस मामले में शैलेष भट्‌ट ने नलिन कोटड़िया से मदद मांगी थी। कोटड़िया ने राज्य गृहमंत्री प्रदीपसिंह जाड़ेजा के साथ बातचीत करने का नाटक किया था। अंतत: शैलेष भट्‌ट ने गृह मंत्री से मुलाकात की और शिकायत दर्ज कराई।