Hindi News »Gujarat »Ahmedabad» Gujarat Highcourt Banned On Vipul Chaudhary To Contest Co-Operative Election

पूर्व गृहमंत्री विपुल चाैधरी के सहकारी चुनाव लड़ने पर रोक

42 करोड़ रुपए वसूलने का हाईकोर्ट आदेश भी, वाघेला के नेतृत्व में बनी सरकार में विपुल चाेैधरी गृहमंत्री थे।

Dainikbhaskar.com | Last Modified - May 10, 2018, 02:25 PM IST

  • पूर्व गृहमंत्री विपुल चाैधरी के सहकारी चुनाव लड़ने पर रोक
    +1और स्लाइड देखें
    कोर्ट ने विपुल चौधरी को सहकारी चुनाव लड़ने पर प्रतिबंध लगा दिया है।

    अहमदाबाद। गुजरात हाईकोर्ट ने राज्य के पूर्व गृहमंत्री विपुल चौधरी और दूध सागर डेयरी के भूतपूर्व चेयरमेन विपुल चौधरी को करारा झटका दिया है। कोर्ट ने उन्हें सहकारी चुनाव लड़ने पर प्रतिबंध लगा दिया है। इसके अलावा उनसे 42 करोड़ रुपए वसूलने का भी आदेश दिया है। कोर्ट ने दिया करारा झटका…

    विपुल चौधरी से धारा 93 के तहत 42 करोड़ रुपए वसूलने के लिए सरकार ने कार्रवाई शुरू की थी। इसके विरोध में उन्होंने हाईकोर्ट में अपील की थी। हाईकोर्ट ने 27-4-18 को उनकी अपील खारिज कर दी थी। इसे उन्होंने हाईकोर्ट की डबल बेंच में चुनौती दी थी। इससे कोर्ट ने विपुल चाैधरी को झटका देते हुए उनसे 42 करोड़ रुपए वसूलने के आदेश दिए।

    इस कारण नहीं लड़ पाएंगे सहकारी चुनाव

    विपुल चौधरी को धारा 93 के तहत दोषी पाया गया है। इससे वे किसी भी प्रकार का सहकारी चुनाव नहीं लड़ सकते। इससे उनके सहकारी क्षेत्र के भविष्य पर पूरी तरह से पूर्ण विराम लग गया है।

    कौन हैं विपुंल चौधरी

    वर्ष 1995 में जब भाजपा में शंकर सिंह वाघेला ने बगावत की थी, तब विपुल चौधरी भी उनके साथ थे। बगावत के बाद वाघेला के नेतृत्व में बनाई गई राजपा सरकार में वे गृहमंत्री बने थे। इसके बाद वे सहकारी क्षेत्र में अपनी साख को बचाए रखने के लिए फिर से भाजपा में आ एग। इस दौरान वे गुजरात मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन और दूध सागर डेयरी के चेयरमैन बने। समय के साथ उन्हें ये दोनों पद गंवाने पड़े।

  • पूर्व गृहमंत्री विपुल चाैधरी के सहकारी चुनाव लड़ने पर रोक
    +1और स्लाइड देखें
    वाघेला के नेतृत्व में बनी राजपा सरकार में वे गृहमंत्री थे।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ahmedabad

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×