अहमदाबाद

--Advertisement--

PM मोदी को स्नाइपर राइफल से मारना चाहता था IS का संदिग्ध

सूरत के वकील उबेद अहमद मिर्जा ने एक मेसेजिंग एप में जताई थी अपनी इच्छा।

Dainik Bhaskar

May 11, 2018, 03:48 PM IST
मिर्जा और लेब टेक्निशियन कासिम स्टिमबेरवला की गुजरात एटीएस ने 25 अक्टूबर 2017 को अंकलेश्वर से अरेस्ट किया था। मिर्जा और लेब टेक्निशियन कासिम स्टिमबेरवला की गुजरात एटीएस ने 25 अक्टूबर 2017 को अंकलेश्वर से अरेस्ट किया था।

अहमदाबाद। गुजरात ATS(एंटी टेरेरिस्ट स्क्वाॅड) ने आईएस के कथित ऑपरेटिव मामले में अंकलेकश्वर कोर्ट में एक चार्जशीट दाखिल की है, जिसमें कहा गया है कि आईएस का संदिग्ध ऑपरेटिव और सूरत का वकील उबेद अहमद मिर्जा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मारना चाहता था। अपनी यह इच्छा उसने एक मेसेजिंग एप पर व्यक्त की थी। दोनों संदिग्ध सूरत के…

गुजरात एटीएस के एक अधिकारी ने बताया कि कासिम की धरपकड़ के 21 दिन पहले उसने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। वह जमैका भाग जाना चाहता था, ताकि कट्टरपंथी मौलवी शेख अब्दुल्ला अल फैसल के साथ जेेहादी मिशन पर काम कर सके। कासिम ने इसके लिए जमैका में नौकरी के लिए आवेदन भी किया था। इस आधार पर उसने एक वर्क परमिट भी प्राप्त कर लिया था। दोनों सूरत के ही रहने वाले हैं।

मिर्जा ने पिस्तौल खरीदने के लिए भेजा था मेसेज

चार्जशीट में कहा गया है कि 10 सितम्बर को मिर्जा ने संदेश भेजा था कि पिस्तौल खरीदनी है, इसके बाद ही मैं उनसे सम्पर्क करूंगा। यहां पर उनके शब्द का इस्तेमाल किसके लिए किया गया है, यह साफ नहीं हो पाया है।

ठीक है मोदी को स्नाइपर राइफल से मारेंगे

चार्जशीट के अनुसार मिर्जा ने रात 11 बजकर 28 मिनट पर खुद को फरारी बताने वाले दोस्त से मेसेज मिला था ‘‘ठीक है मोदी को स्नाइपर राइफल से मारेंगे’’। एटीएस ने बताया कि संदिग्ध अब गवाह बन गया है, जिसके कारण यह धरपकड़ हो पाई।

‘‘पिस्तौल खरीदनी है उसके बाद ही मैं उनसे सम्पर्क करूंगा।’’ ‘‘पिस्तौल खरीदनी है उसके बाद ही मैं उनसे सम्पर्क करूंगा।’’
एटीएस ने बताया कि कई संदिग्ध गवाह बन गए, इसलिए यह धरपकड़ हो पाई। एटीएस ने बताया कि कई संदिग्ध गवाह बन गए, इसलिए यह धरपकड़ हो पाई।
X
मिर्जा और लेब टेक्निशियन कासिम स्टिमबेरवला की गुजरात एटीएस ने 25 अक्टूबर 2017 को अंकलेश्वर से अरेस्ट किया था।मिर्जा और लेब टेक्निशियन कासिम स्टिमबेरवला की गुजरात एटीएस ने 25 अक्टूबर 2017 को अंकलेश्वर से अरेस्ट किया था।
‘‘पिस्तौल खरीदनी है उसके बाद ही मैं उनसे सम्पर्क करूंगा।’’‘‘पिस्तौल खरीदनी है उसके बाद ही मैं उनसे सम्पर्क करूंगा।’’
एटीएस ने बताया कि कई संदिग्ध गवाह बन गए, इसलिए यह धरपकड़ हो पाई।एटीएस ने बताया कि कई संदिग्ध गवाह बन गए, इसलिए यह धरपकड़ हो पाई।
Click to listen..