Hindi News »Gujarat »Ahmedabad» The Cash Loading Cashier At The ATM Fired 1.39 Crore, Fugitives

ATM में रुपए डालने वाला कैशियर 1.39 करोड़ रुपए लेकर फरार

हर तीन महीने में एटीएम का ऑडिट होने से धोखाधड़ी करने का समय मिल गया, अभी 10 एटीएम का ऑडिट बाकी है।

Dainikbhaskar.com | Last Modified - Jun 11, 2018, 04:16 PM IST

  • ATM में रुपए डालने वाला कैशियर 1.39 करोड़ रुपए लेकर फरार
    +1और स्लाइड देखें
    प्रतीकात्मक तस्वीर
    • 3 महीने में आडिट होने से रुपए निकालने का मौका मिल गया।
    • अभी 10 एटीएम की जांच बाकी, राशि में इजाफा हो सकता है।

    अहमदाबाद। एटीएम के केश लोड करने वाली निजी कंपनी के कर्मचारी ने फरवरी से मई तक कुल 27 एटीएम से 1.39 करोड़ रुपए निकाल लिए। कंपनी ने जब एटीएम का ऑडिट किया, तो यह खुलासा हुआ। ऐसा करने वाले कर्मचारी के खिलाफ कागड़ापीठ पुलिस स्टेशन में एफआईआर लिखवाई गई है। 3 महीने में 27 एटीएम पर हाथ साफ किया…

    इस कंपनी में एटीएम के रुपए डालने का काम करते कर्मचारी पूर्वीश चौधरी, सोनू गुप्ता पिछले दो साल से कुल 37 एटीएम में राशि डालने का काम कर रहे हैं। शुक्रवार की शाम को ऑडिट टीम ने विजीट किया। जिसमें सोनू गुप्ता को साथ में लेकर ऑडिट टीम गई थी। जमालपुर के पास आए आईसीआईसीअाई बैंक के एटीएम पर आॅडिट चल रहा था। इस दौरान पूर्वीश भी वहां पहुंचा। टीम जब वटवा एटीएम का ऑडिट करने के लिए निकली, तब पूर्वीश ने बाइक पंचर का बहाना बनाया और वहां से फरार हो गया। इधर टीम ने अन्य 22 एटीएम की जांच की, तो पता चला कि उसमें से एक करोड़ 38 लाख 99 हजार रुपए पर हाथ साफ कर दिया गया है। ऑडिट अधिकारियों को शंका है कि यह काम पूर्वीश ने ही किया है।

    अभी 10 एटीएम की जांच बाकी

    22 बैंकों के एटीएम की जांच करने पर पता चला कि इनसे 64 लाख रुपए पर हाथ साफ कर दिए गए। इसके बाद शनिवार को दूसरे 5 एटीएम की जांच की गई, तो उसमें से 74.99 लाख रुपए निकाल लेने की जानकारी मिली। इस तरह से 22 बैंकों के एटीएम से कुल 1.39 करोड़ रुपए पर हाथ साफ करने की बात सामने आई। इस राशि में अभी और इजाफा होने की संभावना व्यक्त की गई है।

    तीन महीने में होता है आडिट

    कंपनी में एटीएम में कैश डालने की टीम बनाई जाती है। इसमें किस एटीएम में कितनी राशि डाली गई, इसकी सूची तैयार की जाती है। एटीएम में राशि डालने के बाद कर्मचारी उसकी रिसिट जमा कराते हैँ। इसके बाद उसकी एंट्री कर बैंकों को भेज दी जाती है। राशि डालने की जांच तीन महीने में की जाती है, इससे कर्मचारी को रुपयों पर हाथ साफ करने का मौका मिल गया।

  • ATM में रुपए डालने वाला कैशियर 1.39 करोड़ रुपए लेकर फरार
    +1और स्लाइड देखें
    प्रतीकात्मक तस्वीर।
Topics:
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ahmedabad

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×