गुजरात

--Advertisement--

बिना पानी के पूर्व सीएम के इस गांव में कोई अपनी बेटी देने को तैयार नहीं

चार बार सीएम देने वाले बदलपुर में पानी की समस्या

Dainik Bhaskar

Mar 22, 2018, 01:53 PM IST
चुनाव के पहले दिए गए नेताओं के आश्वासन चुनाव के बाद कभी पूरे नहीं हुए। चुनाव के पहले दिए गए नेताओं के आश्वासन चुनाव के बाद कभी पूरे नहीं हुए।

बोरसद। नल है पर जल नहीं। जल के बिना इस गांव में कोई अपनी बेटी देने को तैयार नहीं है। इसलिए पानी के लिए पूरी जद्दोजहद महिलाओं को ही करनी पड़ती है। पूर्व मुख्यमंत्री माधवसिंह सोलंकी और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भरतसिंह सोलंकी के गांव बदलपुर में महिलाओं को सर पर घड़े लिए हुए गांव के खुले कुएं में जाते हुए देखा जा सकता है। यह 18 सदी के गुजरात के उस गांव का दृश्य है, जिसने प्रदेश को एक नहीं, बल्कि 4 मुख्यमंत्री दिए हैँ। चुनाव के समय दिए गए आश्वासन आज तक पूरे नहीं हुए…

यूं तो बदलपुर में अन्य सारी सुविधाएं हैं, पर किल्लत है तो केवल मीठे पानी की। नागरिक बरसों से मीठे पानी के लिए तरस रहे हैं। यहां साल भर मीठे पानी की समस्या बनी रहती है। यूं तो पानी की पाइप लाइन है, पर उसमें पानी नहीं आता, इसलिए अपना सारा काम छोड़कर महिलाएं कुएं से मीठे पानी के लिए दिन भर जद्दोजहद करती रहतीं हैं। यहां की महिला सरपंच भी सर पर घड़ा लिए हुए पानी भरते देखी जा सकती है।

नेता आते हैं आश्वासन देकर चले जाते हैं

हर बार यहां चुनाव के समय नेता आकर आश्वासन देकर चले जाते हैं, पर उनके आश्वासन कभी पूरे नहीं हुए। पीने के पानी के लिए केवल एक ही खुला कुआं है, जिसे देखकर आश्चर्य होता है कि यह क्या यह वही गांव है, जिसने राज्य को चार बार मुख्यमंत्री दिए हैं।

खुला कुआं कभी भी अनहाेनी का कारण बन सकता है। खुला कुआं कभी भी अनहाेनी का कारण बन सकता है।
गांव को मीठे पानी की सुविधा कब मिलेगी, कहा नहीं जा सकता। 30 बरसों से यह समस्या जारी है। पर समाधान आज तक नहीं हो पाया। गांव को मीठे पानी की सुविधा कब मिलेगी, कहा नहीं जा सकता। 30 बरसों से यह समस्या जारी है। पर समाधान आज तक नहीं हो पाया।
नल है पर जल नहीं, इसलिए इस गांव में कोई अपनी बेटी देने को तैयार नहीं है। नल है पर जल नहीं, इसलिए इस गांव में कोई अपनी बेटी देने को तैयार नहीं है।
X
चुनाव के पहले दिए गए नेताओं के आश्वासन चुनाव के बाद कभी पूरे नहीं हुए।चुनाव के पहले दिए गए नेताओं के आश्वासन चुनाव के बाद कभी पूरे नहीं हुए।
खुला कुआं कभी भी अनहाेनी का कारण बन सकता है।खुला कुआं कभी भी अनहाेनी का कारण बन सकता है।
गांव को मीठे पानी की सुविधा कब मिलेगी, कहा नहीं जा सकता। 30 बरसों से यह समस्या जारी है। पर समाधान आज तक नहीं हो पाया।गांव को मीठे पानी की सुविधा कब मिलेगी, कहा नहीं जा सकता। 30 बरसों से यह समस्या जारी है। पर समाधान आज तक नहीं हो पाया।
नल है पर जल नहीं, इसलिए इस गांव में कोई अपनी बेटी देने को तैयार नहीं है।नल है पर जल नहीं, इसलिए इस गांव में कोई अपनी बेटी देने को तैयार नहीं है।
Click to listen..