पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

माता-पिता के साथ बाइक पर जाते बच्चे का गला कटा, कांस्टेबल ने हॉस्पिटल पहुंचाया

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
शिवम के गले में पतंग की डोरी फंस गई। उसे हॉस्पिटल ले जाने वाले कांस्टेबल किरीट भाई(इंसेट) - Dainik Bhaskar
शिवम के गले में पतंग की डोरी फंस गई। उसे हॉस्पिटल ले जाने वाले कांस्टेबल किरीट भाई(इंसेट)
  • सड़क पर ही बुरी तरह से गिरकर घायल हुआ परिवार
  • कांस्टेबल के साहस की प्रशंसा की गई

सूरत. मूक पशु-पक्षी और दो पहिया वाहन पर जाने वालों के लिए उत्तरायण किसी काल से कम नहीं है। पतंग की डोर से लगातार दुर्घटनाएं हो रही हैं। अपने माता-पिता के साथ बाइक पर मंदिर जाने वाले 4 साल के बच्चे का गला पतंग की डोर से कट गया। इसी समय वहां से गुजरते हुए कांस्टेबल ने बच्चे को तुरंत हॉस्पिटल पहुंचाया, जिससे बच्चे की जान बच गई।
 

तीनों बच्चे आगे बैठे थे
चलथाण में रहने वाला 4 वर्षीय शिवम अपने माता-पिता के साथ पार्ले पाइंट स्थित अंबाजी माता के दर्शन करने जा रहा था। इस दौरान शिवम के पिता पप्पूसिंह ने बाइक की टंकी पर अपने तीनों बच्चों को बिठा रखा था। सबसे आगे शिवम था। करीब दस बजे पप्पू सिंग जब कोर्ट बिल्डिंग के करीब से गुजर रहे थे, इस दौरान कटी हुई पतंग की डोर शिवम के गले में फंस गई। जिससे पूरा परिवार सड़क पर गिर पड़ा।
 

कांस्टेबल की दरियादिली
पप्पूसिंह का परिवार जैसे ही सड़क पर गिर पड़ा, उसी समय कांस्टेबल किरीट पटणी वहां से गुजर रहे थे। उसने अपनी बाइक किसी को चलाने के लिए दी और शिवम को गोद में उठाकर अस्पताल की ओर निकले। किरीट भाई ने देखा कि पतंग की डोर शिवम के गले के अंदर तक घुस गई है। काफी खून बह रहा है। हॉस्पिटल पहुंचते ही शिवम का इलाज शुरू हो गया। इधर कांस्टेबल किरीट भाई की इस दरियादिली की काफी प्रशंसा की जा रही है।
 

शिवम को 12 टांके आए
इस हादसे में शिवम का गले पर 7 सेंटीमीटर लम्बा और 3 सेंटीमीटर गहरा घाव हो गया। जिससे उसके 12 टांके आए।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज ऊर्जा तथा आत्मविश्वास से भरपूर दिन व्यतीत होगा। आप किसी मुश्किल काम को अपने परिश्रम द्वारा हल करने में सक्षम रहेंगे। अगर गाड़ी वगैरह खरीदने का विचार है, तो इस कार्य के लिए प्रबल योग बने हुए...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser