अहमदाबाद / डीपीएस ईस्ट की मान्यता रद्द, स्कूल बंद, अभिभावकों में रोष

स्कूल के बाहर पालकों ने किया विरोध स्कूल के बाहर पालकों ने किया विरोध
स्कूल के खिलाफ नारेबाजी की स्कूल के खिलाफ नारेबाजी की
X
स्कूल के बाहर पालकों ने किया विरोधस्कूल के बाहर पालकों ने किया विरोध
स्कूल के खिलाफ नारेबाजी कीस्कूल के खिलाफ नारेबाजी की

  • बैनर के साथ स्कूल बचाने की मांग
  • 40 और लोगों ने आश्रम छोड़ा

Dainik Bhaskar

Dec 03, 2019, 03:42 PM IST

अहमदाबाद. नित्यानंद विवाद के बाद दिल्ली पब्लिक स्कूल की एनओसी और एफिलिएशन को लेकर उसकी मान्यता रद्द कर दी गई है। स्कूल भी अनिश्चित काल के लिए बंद कर दिया गया है। ऐसे में अभिभावकों में रोष देखने को मिल रहा है। अभिभावक अपने तरीके से विरोध कर रहे हैँ। सोमवार की सुबह अभिभावक अपने बच्चों के साथ स्कूल पहुंचे थे। दरवाजा बंद होने के कारण सभी ने बाहर ही अपना विरोध दर्ज किया।
 

स्कूल से मैसेज आया
स्कूल प्रबंधन द्वारा अभिभावकों को फोन पर मैसेेज आया, जिसमें स्कूल बंद करने की जानकारी दी गई थी। मैसेज में कहा गया था कि हमें अभी एक लेटर मिला है, जिसके अनुसार कक्षा एक से 8 तक की परमिशन को डीपीईओ ऑफिस द्वारा मान्यता रद्द कर दी गई है। हम आपको बता रहे हैं कि अगली सूचना तक स्कूल बंद रहेगा।
 

अभिभावक विरोध करेंगे
सारे अभिभावक मणिनगर के उत्तमनगर गार्डन में इकट्ठा हुए। सभी ने बच्चों की शिक्षा की वैकल्पिक व्यवस्था करने का अनुरोध डीईओ से की है। इसके अलावा यह धमकी भी दी है कि यदि इस दिशा में शीघ्र कार्रवाई नहीं की गई, तो शहर की सभी स्कूलें बंद करवा दी जाएंगी। अभिभावकों ने कहा कि हमारे बच्चों का भविष्य लटक गया है। बच्चे हमसे पूछ रहे हैं कि हम स्कूल क्यों नहीं जा रहे हैं, हम क्या जवाब दें? यदि प्रशासन ने अपना रवैया नहीं बदला, तो मंगलवार को शहर की सभी स्कूलों को बंद करवाया जाएगा।
 

दो दिनों में रिपोर्ट पेश करने का आदेश
डीपीएस ईस्ट की कक्षा 9 से 12 वीं की मान्यता सीबीएसई बोर्ड द्वारा रद्द किए जाने के बाद साेमवार की सुबह अभिभावकों ने स्कूल प्रबंधन के खिलाफ अपना रोष प्रकट किया। स्कूल के प्रिंसीपल हितेश पुरी ने मीटिंग में अभिभावकों को यह बताया था कि कक्षा 1 से 8वीं तक सीबीएसई की एनओसी की आवश्यकता नहीं है, स्थानीय जिला शिक्षा अधिकारी की एनओसी हमारे पास है, इसलिए मंगलवार से पहली से 8 वीं तक की कक्षाएं लगेंगी। इसके 6 घंटे बाद ही कक्षा पहली से 8 वीं तक की मान्यता रद्द हो जाने से 600 स्टूडेंट्स परेशान हो गए। यह निर्णय स्कूल द्वारा 14 दस्तावेज जमा नहीं करने के कारण लिया गया। निर्णय के ऑर्डर में एफआरसी के नियम के अनुसार कक्षा 1 से 8 के स्टूडेंट्स से ली गई एडवांस फीस वापस करने का आदेश दिया गया। दो दिनों के अंदर राशि वापस कर उसकी रिपोर्ट पेश करने के लिए भी कहा गया है।
 

बोपल ब्रांच में स्थानांतरण करने में मदद करेंगे
शिक्षा मंत्री भूपेंद्र सिंह चूड़ासमा ने इस स्कूल के विद्यार्थियों को बाेपल की ब्रांच या अन्य नजदीकी स्कूलों में ट्रांसफर करने में मदद का आश्वासन दिया है। दूसरी तरफ अभिभावकों की तरफ से शोएब शेख ने कहा है कि हम स्कूल ट्रांसफर नहीं करेंगे। हमारे बच्चे इसी स्कूल में पढ़ेंगे।
 

9 साल तक असंवैधानिक रूप से चली
शिक्षा विभाग ने विवेकानंद नगर पुलिस स्टेशन में बोगस दस्तावेज बनाकर राज्य सरकार को अंधेरे में रखा और मान्यता के बिना ही असंवैधानिक तरीके से डीपीएस ईस्ट स्कूल के ट्रस्टी मंजुला श्राप, हितेन वसंत और पूर्व प्रिंसीपल अनिता दुआ के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी। इस आधार पर पुलिस धरपकड़ न करें, इसलिए मंजुला श्राप और हितेन वसंत ने एडवोकेट अजित सिंह जाडेजा के माध्यम से ग्रामीण कोर्ट में अग्रिम जमानत अर्जी की है। जिसमें यह कहा गया है कि हम निर्दोष हैं। देश के प्रतिष्ठित व्यक्ति हैं, यदि पुलिस हमारी धरपकड़ करती है, तो हमारी प्रतिष्ठा पर आंच आएगी।
 

ग्रामीण कोर्ट मजिस्ट्रेट 10 दिसम्बर को
हाथीजण में स्थित नित्यानंद आश्रम का विवाद शुरू होते ही यह बात सामने आई कि बिना मान्यता के यह स्कूल 9 साल से असंवैधानिक रूप से चल रहा था। इसलिए इसकी ट्रस्टी मंजुला श्राप और हितेन वसंते द्वारा दायर की गई अग्रिम जमानत पर सुनवाई ग्रामीण कोर्ट मजिस्ट्रेट 10 दिसम्बर को करेंगे।
 

5 लोग अभी भी आश्रम में
नित्यानंद आश्रम में 29 बच्चों समेत 40 लोगों ने मंगलवार को आश्रम छोड़ दिया था। पुलिस वहां सुरक्षा व्यवस्था में लगी है। बताया गया है कि अभी भी 5 लोग आश्रम में हैं। उधर आश्रम की साधिका की अग्रिम जमानत की अर्जी को कोर्ट ने खारिज कर दिया है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना