पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कैंसरग्रस्त पति की सेवा के लिए छोड़ दी वकालत, फिर बनी मिसाल

9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पति अयूब खान के साथ फरीदा
Advertisement
Advertisement

सूरत. कैंसर का नाम सुनते ही इंसान के पसीने छूट जाते हैँ। पहले यह माना जाता था कि जिसे कैंसर हुआ है, उसकी जिंदगी कैंसल हो गई है। अब विज्ञान इस दिशा में लोगों के लिए एक सम्बल बनकर आया है। अब कैंसर का इलाज संभव है। यहां रामपुरा की वकील फरीदा पठान ने अपने कैंसरग्रस्त पति की खूब सेवा की। उनकी मौत के बाद वह कैंसरग्रस्त लोगों की सेवा में ही डूब गईं।
 

2012 में पति को हुआ कैंसर
मूल रूप से दाहोद की रहने वाली फरीदा की शादी अयूब खान पठान से 2002 में हुई थी। दोनों ने लव मैरिज की थी। दोनों ही वकालत के पेशे से सम्बद्ध थे। कुछ समय अच्छे से बीता, उसके बाद मानो उनके सुखमय जीवन को किसी की नजर लग गई। 2012 में अयूब खान को मुंह पर दाग दिखने लगे। जांच में पता चला कि उन्हें मुंह का कैंसर है।
 

पति की सेवा में डूब गई फरीदा
पति को कैंसर है, यह जानकर फरीदा के पांव तले जमीन ही खिसक गई। परंतु उसने हार नहीं मानी। फिर उसने जहां भी कैंसर के इलाज की सूचना मिलती, वह पति को लेकर पहुंच जाती। इस दौरान उसने अपनी वकालत भी छोड़ दी। पति अच्छे हो जाएं, इसके लिए उसने वह सारे जतन किए। इस जतन में उसके गहने बिक गए, सम्पत्ति भी नहीं रही। यह लड़ाई 6 साल तक चलती रही। आखिर में अयूब जिंदगी से हार गए।
 

कैंसर को हराने का संकल्प
पति की मौत के बाद फरीदा ने एक नए उत्साह के साथ कैंसर हो हराने का संकल्प ले लिया। उसने अपना जीवन कैंसरग्रस्त मरीजों की सेवा में लगा दिया। इस सिलसिले में 2015 में उम्मीद कैंसर रिलीफ ट्रस्ट की स्थापना की। इसके तहत वह खुद कैंसरग्रस्त लोगों के परिवार वालों को मार्गदर्शन देने लगी। समय आने पर वह खुद मरीजों को अस्पताल ले जाकर उन्हें भर्ती करती। सरकारी योजनाओं के तहत उनके ऑपरेशन करवाती। कई अस्पताल में मरीजों का खर्च कम कराती। ऑपरेशन के बाद मरीजों की ड्रेसिंग करती। पिछले 4 सालों में अब तक फरीदा ने एक हजार से अधिक कैंसरग्रस्त मरीजों की सहायता की है। उसका सपना है कि कैंसरग्रस्त मरीजों के लिए एक अस्पताल की स्थापना करना।

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज आप अपनी रोजमर्रा की व्यस्त दिनचर्या में से कुछ समय सुकून और मौजमस्ती के लिए भी निकालेंगे। मित्रों व रिश्तेदारों के साथ समय व्यतीत होगा। घर की साज-सज्जा संबंधी कार्यों में भी समय व्यतीत हो...

और पढ़ें

Advertisement