पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

चेकपोस्टों पर हर साल 400 करोड़ का भ्रष्टाचार होता था

9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक तस्वीर
  • ओवरडायमेंशन में अधिक भ्रष्टाचार
  • कई तरीकों से होता है भ्रष्टाचार
Advertisement
Advertisement

अहमदाबाद. राज्य सरकार ने 16 चेकपोस्ट को खत्म करने की घोषणा की है। इन चेकपोस्टों से हर साल 90 लाख वाहन गुजरते थे। इसमें सरकार को 332 करोड़ की आय होती थी, दूसरी ओर 400 करोड़ का भ्रष्टाचार भी होता था। सरकार के चार साल के अध्ययन में यह चौंकाने वाली जानकारी सामने आई थी। अब इन चेक पोस्टों को खत्म कर सारे कामकाज ऑनलाइन कर दिए गए हैं। 
ओवरडायमेंशन में अधिक भ्रष्टाचार
 

कई तरीकों से होता है भ्रष्टाचार
ओवरलोड के बजाए ओवरडायमेंशन में अधिक भ्रष्टाचार होता था, इसमें कानूनन जो जुर्माना लगना चाहिए था, उसका आधा कर दिया जाता और बिना रसीद के वाहन को जाने दिया जाता था। हर साल 90 लाख वाहनों में से 11 लाख वाहनों से ही जुर्माना लिया जाता, बाकी के 79 लाख वाहनों पर भ्रष्टाचार किया जाता। इस तरह से हर साल कम से कम 400 करोड़ की चपत सरकार को लगती थी।
 

कई तरीकों से होता है भ्रष्टाचार
यह भ्रष्टाचार कई तरह से होता है। चेकपोस्ट पर एंट्री ली जाती है, तब अनिवार्य रूप से पहले तो 50 रुपए देने ही होते हैँ। इसके बाद ओवरलोड में तयसीमा से अधिक लोड होने पर एक टन का 5 हजार रुपए और बाकी के वजन में प्रति टन 1 हजार रुपए का दंड देना होता है। इस तरह से ओवरडायमेंशन सिंगल चेचिस हो और खेती की फसल, घर का सामान या फिर सलाखें जैसी चीजें हों, तो अलग से दंड का प्रावधान है। यह दंड 1000 से लेकर 10 हजार तक का है। सामान्य रूप से खेती की फसल या घर का सामान लेकर जाने वाले वाहन को ओवरडायमेंशन में माना जाता है। इससे कम से कम उसे चेक पोस्ट पर 500 रुपए तो देने ही होते हैं। इस तरह से सरकार को 90 लाख वाहनों में से 11 लाख से ही दंड मिल पाता है। बाकी के 79 लाख वाहनों से यह राशि नहीं मिल पाती थी। इससे हर साल 3.95 अरब रुपए का भ्रष्टाचार होता था।

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज वित्तीय स्थिति में सुधार आएगा। कुछ नया शुरू करने के लिए समय बहुत अनुकूल है। आपकी मेहनत व प्रयास के सार्थक परिणाम सामने आएंगे। विवाह योग्य लोगों के लिए किसी अच्छे रिश्ते संबंधित बातचीत शुर...

और पढ़ें

Advertisement