अग्निकांड / तक्षशिला आर्केड की दूसरी मंजिल पर लगे एसी के आउटलेट में लगी थी आग

24 मई को लगी आग का भयावह दृश्य 24 मई को लगी आग का भयावह दृश्य
X
24 मई को लगी आग का भयावह दृश्य24 मई को लगी आग का भयावह दृश्य

  • जांच रिपोर्ट  10 दिन बाद आई 
  • एफएसएल रिपोर्ट में बताया कैसे मरे 22 बच्चे 

Jun 03, 2019, 03:12 PM IST

सूरत. 22 बच्चों की जान लेने वाले सरथाणा के तक्षशिला आर्केड अग्निकांड की एफएसएल की जांच रिपोर्ट आ गई है। घटना के 10 दिन बार क्राइम ब्रांच के जांच अधिकारी आरआर सरवैया को सौंपी रिपोर्ट में बताया है कि आग तक्षशिला की दूसरी मंजिल के एसी के आउटलेट में लगी थी। 


तीनों रिपोर्ट्स का होगा अध्ययन
दूसरी ओर पुलिस एफएसएल, डीजीवीसीएल और इलेक्ट्रिकल इंजीनियर की जांच रिपोर्ट का भी अध्ययन कर रही है। तीनों रिपोर्ट का तुलनात्मक अध्ययन करने के बाद कारण और अधिक स्पष्ट होंगे। हादसे में डीजीवीसीएल की गंभीर लापरवाही थी या नहीं, यह भी पता चल सकेगा। 


जलने से 17 की मौत हुई थी
24 मई को दोपहर 3 बचे लगी तक्षशिला ऑर्केड में आग चौथी मंजिल तक पहुंच गई थी। जिससे चौथी मंजिल पर चल रही ड्राइंग क्लासेस में विद्यार्थी फंस गए। जिससे 17 लोगों की जलने से मौत हो गई थी। जबकि जान बचाने के लिए नीचे कूदने से पांच बच्चों की मौत हो गई थी। हादसे के बाद पुलिस ने ट्यूशन संचालक भार्गव बूटाणी, बिल्डर हरसुल वेकरिया और जिग्नेश पाघडाल को गिरफ्तार किया था। दूसरी ओर पुलिस ने मनपा के फायर ऑफिसर आचार्य और मोढवी को गिरफ्तार किया था। रिमांड पूरी होने के बाद आरोपियों को कस्टडी में भेज दिया गया। 
 

पूछताछ जारी
क्राइम ब्रांच ने अभी तक महानगर पालिका ने कई अधिकारियों से पूछताछ कर महत्व की जानकारी एकत्रित की है। अब जांच डीजीवीसीएल पर केंद्रित है। रविवार को क्राइम ब्रांच ने डीजीवीसीएल के चीफ इंजीनियर आरके पुरोहित से काफी देर तक पूछताछ कर उनका बयान लिया है। बताया जा रहा है कि जिस समय जांच अधिकारी आरआर सरवैया चीफ इंजीनियर का बयान ले रहे थे। उस समय पुलिस कमिश्नर सतीश शर्मा भी वहां मौजूद रहे और उन्होंने सवाल भी किए थे। 
 

6 लोगों पर कार्रवाई
सरथाणा अग्निकांड में मनपा ने अभी तक छह लोगों पर एक्शन लिया है। वहीं विपक्ष ने भी मामले में हरकत दिखाते हुए मनपा आयुक्त को पत्र लिखकर मामले से जुड़ी सभी फाइलों को सुरक्षित करने की मांग की। 


कर्मचारी कागजों को गायब कर सकते हैं
कांग्रेस से पार्षद विजय पानसेरिया ने पत्र में लिखा है कि आरोपियों को बचाने के लिए मनपा के कर्मचारी कागजों को गायब कर सकते हैं। ऐसा होने पर विपक्ष हाइकोर्ट का दरवाजा खटखटाने की तैयारी भी कर रहा है। साथ ही मामले की जांच सीबीआई से कराने की भी मांग विपक्ष के पार्षदों ने की है। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना