• Hindi News
  • Gujarat
  • For the first time in the history, not a single Ganesha idol has been immersed in Sabarmati river at Ahmedabad

अहमदाबाद / इतिहास में पहली बार साबरमती से विसर्जन का विघ्न हुआ दूर



साबरमती नदी साबरमती नदी
X
साबरमती नदीसाबरमती नदी

  • इस बार एक भी मूर्ति नदी में विसर्जित नहीं
  • इस बार लोगों ने किया कृत्रिम कुंड का इस्तेमाल

Dainik Bhaskar

Sep 13, 2019, 12:48 PM IST

अहमदाबाद. शहर के इतिहास में पहली बार साबरमती नदी में गणेश जी की एक भी मूर्ति का विसर्जन नहीं किया गया। करीब 50 हजार मूर्तियाें का रिवरफ्रंट एवं अन्य स्थानों मेँ बनाए गए कृत्रिम कुंड में ही विसर्जन किया गया। कई लोगों ने स्थापना वाले स्थान पर ही मूर्ति का विसर्जन किया। यह सब लोगों की जागरूकता के कारण संभव हो पाया।
 

नदी को शुद्ध करने का प्रयास
म्युनिसिपल कमिश्नर विजय नेहरा ने बताया कि नदी को शुद्ध करने के बाद प्रदूषित न हो, इसके लिए सावधानी बरती गई थी। मेयर बिजल पटेल और कमिश्नर नेहरा लगातार रिवरफ्रंट पर उपस्थित थे। इसके अलावा रिवरफ्रंट पर 1000 पुलिसकर्मी पेट्रोलिंग पर थे। इसके अलावा निजी सिक्योरिटी और बाउंसर भी तैनात किए गए थे। इंदिरा ब्रिज के पास लोगों ने नदी में नहीं, परंतु छठ पूजा के लिए बनाए गए कुंड में गणपति का विसर्जन किया।
 

कमिश्नर ने लोगों का आभार माना
इस बार शहर के लोगों ने साबरमती के बदले कुंड में जिस तरह से गणपति का विसर्जन कर पर्यावरण की रक्षा की दिशा में कदम उठाया है, उसके लिए कमिश्नर ने लोगों का आभार व्यक्त किया है।
 

यह थी व्यवस्था
61 विसर्जन कुंड का निर्माण
71 क्रेन की व्यवस्था की गई थी
5 बोट द्वारा सतत निगरानी
1500 मजदूरों की सेवाएं विसर्जन के लिए
1000 पुलिसकर्मियों की तैनाती

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना