• Hindi News
  • Gujarat
  • He unique story of the love affair of two young women, who has been in love for 8 years, now wants to get married

अनोखा प्यार / शादी करना चाहती हैं 8 साल से साथ-साथ रहने वाली दो युवतियां



प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर
X
प्रतीकात्मक तस्वीरप्रतीकात्मक तस्वीर

  • अपने हक के लिए लड रही हैं परिवार-समाज से
  • प्रेम संबंध को नहीं मिली घर वालों की रजामंदी
  • नाराज होकर दोनों घर छोड़कर भाग गई थीं

Dainik Bhaskar

Aug 22, 2019, 03:53 PM IST

अहमदाबाद. शहर के गीता मंदिर में एक अनोखी लव स्टोरी सामने आई है। एक ही इलाके में रहने वाली दो युवतियों के बीच प्यार हो गया। पर इस प्यार को घर वालों की रजामंदी नहीं मिली। तो दोनों घर छोड़कर भाग गई थीं। इस पर उनकी गुमशुदगी की शिकायत कागड़ापीठ पुलिस थाने में की गई थी।


कार्रवाई के पहले ही पहुंच गई थाने
गुमशुदगी की शिकायत मिलने के बाद पुलिस कुछ कार्रवाई करती, इसके पहले दोनों ने थाने पहुंचकर यह बताया कि दोनों एक-दूसरे से बेइंतहा प्यार करती हैं। हम दोनों शादी करके जीेवन भर साथ रहना चाहते हैं। इस पर कोर्ट ने दोनों को रिहा करने के आदेश दिए और यह भी ताकीद की कि इन्हें किसी भी तरह से परेशान न किया जाए।


परिवार के साथ नहीं रहना चाहती
गीता मंदिर के पास रहने वाली पायल और मानसी 18 अगस्त को घर से भाग गई थीं। इस पर पायल के परिवार वालों ने कागड़ापीठ पुलिस थाने में उनके गुम होने की शिकायत दर्ज कराई। पुलिस जांच शुरू करती, इसके पहले दोनों थाने में हाजिर हो गई। दोनों ने अपनी आप-बीती सुनाई, तो पुलिस भी दंग रह गई। पुलिस ने दोनों को एडिशनल चीफ मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेज बी.जे. पटेल की कोर्ट में पेश किया। वहां सरकारी वकील वनराज सिंह जेबलिया और पुलिस की उपस्थिति में दोनों ने अपने बयान दर्ज कराए।


दोनों शादी करना चाहती हैं
कानून के मुताबिक युवती 18 साल से कम की हाेती हैं, तो ऐसे मामले में पुलिस उन्हें नारी संरक्षण गृह भेज देती। पर दोनों बालिग हैं, इसलिए उन्हें नारी संरक्षण गृह में भेजने के लिए कोर्ट की इजाजत की जरूरत होती है। इस पर सब इंस्पेक्टर के.ए. जाडेजा ने दोनों को नारी संरक्षण गृह में भेजने के लिए कोर्ट में आवेदन किया। दूसरी तरफ दोनों युवतियों ने भी कोर्ट में अर्जी दी कि दोनों 8 साल से एक-दूसरे से प्यार करती हैं और शादी करना चाहती हैं।


माता-पिता की समझाइश काम नहीं आई
इस मामले में दोनों युवतियों को उनके माता-पिता ने खूब समझाया। पर वे कुछ भी मानने को तैयार नहीं हैं। दोनों का कहना था कि वे बालिग हैं और अपने माता-पिता के साथ जाने को तैयार नहीं हैं। इनके बयान के बाद कोर्ट ने पुलिस की याचिका को खारिज कर दिया। फिर दोनों को रिहा करने के आदेश दिए।


कोर्ट की ताकीद
एडिशनल चीफ मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट बी.जे.पटेल ने फैसला सुनाया कि इस मामले में पायल तथा मानसी को किसी प्रकार की परेशानी न हो, उन्हें कोई परेशान भी न करे। इसका ध्यान रखा जाए। आदेश की एक कॉपी पीएसआई तथा दोनों युवतियों को भी दी गई।  (दोनों युवतियों के नाम बदले गए हैं)

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना