लापरवाही / जीका केस से स्वास्थ्य विभाग ने मुझे अंधेरे में रखा-डॉ प्रभाकर



सुप्रीटेंडेंट डॉ एमएम प्रभाकर सुप्रीटेंडेंट डॉ एमएम प्रभाकर
X
सुप्रीटेंडेंट डॉ एमएम प्रभाकरसुप्रीटेंडेंट डॉ एमएम प्रभाकर

  • वीएस अस्पताल में 22 बेड का आइसोलेशन वार्ड तैयार 
  • हाल ही में एक भी जीका वायरस का मरीज दर्ज नहीं हुआ है
     

Dainik Bhaskar

Oct 29, 2018, 06:06 PM IST

अहमदाबाद. राज्य सरकार जीका वायरस के केस छुपा रही है, ऐसा एक और मामला सामने आया है। सिविल में भर्ती महिलाओं का जीका का टेस्ट पॉजिटिव आने पर स्वास्थ्य विभाग ने सिविल को अंधेरे में रखा है, ऐसा दावा सुप्रीटेंडेंट डॉ एमएम प्रभाकर ने किया है।


सुप्रीटेंडेंट का दावा: सिविल के सुप्रीटेंडेंट का दावा है कि जीका का शिकार हुई महिला छुट्टी लेकर घर गई तब तक उन्हें इस बात की जानकारी नहीं दी गई थी। इस दौरान जीका के डर को ध्यान में रखकर वीएस अस्पताल में 22 बेड का आइसोलेशन वार्ड तैयार किया गया है। हाल ही में जीका वायरस के एप के साथ एक भी मरीज वार्ड में भर्ती नहीं होने की जानकारी अधिकारी बता रहे हैं। 


आइसाेलेशन वार्ड तैयार: अमराईवाड़ी की महिला का जीका वायरस का टेस्ट पॉजिटिव आने से पूछताछ के बावजूद राज्य और कॉर्पोरेशन के स्वास्थ्य विभाग ने एक भी केस दर्ज नहीं होने की जानकारी दी है। भास्कर ने इस केस की जानकारी प्रकाशित की थी। वीएस अस्पताल के आरएमओ डॉ कुलदीप जोशी के अनुसार हाल ही में एक भी जीका वायरस का मरीज दर्ज नहीं हुआ है। फिर भी सावधानी के तौर पर अस्पताल में 22 मरीजों की भर्ती और इलाज हो सके ऐसा आइसोलेशन वार्ड तैयार किया गया है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना