पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कच्छ के 2 पतंगबाज गोवा में रात को उड़ाएंगे पतंग

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
रात में उड़ाई जाने वाली पतंग - Dainik Bhaskar
रात में उड़ाई जाने वाली पतंग
  • कच्छ के पतंगबाजों को मिला आमंत्रण
  • रात में एलईडी लाइट का होता है इस्तेमाल

मांडवी. यूं तो पूरे राज्य में इन दिनों पतंगोत्सव की धूम है। मांडवी के बीच, अहमदाबाद का रिवरफ्रंट समेत कई शहरों में इन दिनों खूब पतंगें उड़ाई जा रही हैँ। ऐसे में गाेवा में आयोजित इंटरनेशनल नाइट काइट फेस्टिवल में कच्छ मांडवी के दो पतंगबाजों को आमंत्रण मिलने से यहां लोगों में खुशी है। ये पतंगबाज गोवा में दिन में नहीं, बल्कि रात में पतंग उड़ाएंगे।

एलईडी लाइट का होगा इस्तेमाल
रात के अंधकार में आकाश में एलईडी लाइट से अम्ब्रेला, डेल्टा, हार्ट, एयरफोल्ड, समेत रंग-बिरंगी रोशनी से जगमगाती पतंगें गोवा में भी देखने को मिलेंगी। कच्छ के पतंगबाज जयेश सिसोदिया और विराज सोलंकी को इस बार गोवा बुलाया गया है। ये दोनों अजीब तरह की पतंग बनाकर उसे उड़ाते हैं, यही उनका शौक भी है। अपनी इस खूबी के कारण इन्होंने कई स्पर्धाओं में भाग भी लिया है। गोवा टूरिज्म से आमंत्रण मिलने के बाद ये 16 जनवरी को वहां रात में एलईडी लाइट की मदद से पतंग उड़ाएंगे।

भारत की 25 टीमें शामिल होंगी
इस अंतरराष्ट्रीय रात्रिकालीन पतंगोत्सव में भारत की 25 टीमें भाग ले रही हैं। इसमें अहमदाबाद, वडोदरा और कच्छ समेत राज्य के कई शहरों से लोग शामिल होंगे। इसके अलावा विदेश की भी 25 टीमें इस स्पर्धा में भाग ले रहेी हैं। गोवा के बाद बेलगाम और हुबली में भी कच्छ के दोनों पतंगबाज शामिल होंगे।

बैटरी से एलईडी को करते हैं प्रकाशित
नाइट काइट बनाने की टेकनिक कुछ अलग है। इस तरह की पतंग में डेढ़, 9 और 3 वॉट की बैटरी का उपयोग किया जाता है। इस बैटरी से एलईडी लाइट पतंग में फीट की जाती है। ये सभी पतंगें ये अपने हाथ से हेी बना

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आपकी मेहनत व परिश्रम से कोई महत्वपूर्ण कार्य संपन्न होगा। किसी विश्वसनीय व्यक्ति की सलाह और सहयोग से आपका आत्म बल और आत्मविश्वास और अधिक बढ़ेगा। तथा कोई शुभ समाचार मिलने से घर परिवार में खुशी ...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser