हादसा / मां के सामने स्वीमिंग सीख रहा 11 साल का इकलौता बेटा डूबा, मौत



बच्चे की मौत होने से गमगीन परिजन, इनसेट चैतन्य बच्चे की मौत होने से गमगीन परिजन, इनसेट चैतन्य
X
बच्चे की मौत होने से गमगीन परिजन, इनसेट चैतन्यबच्चे की मौत होने से गमगीन परिजन, इनसेट चैतन्य

  • 72 किलो था बच्चे का वजन
  • माता-पिता की इकलौती संतान

Dainik Bhaskar

Apr 17, 2019, 03:27 PM IST

सूरत. न्यू सिटीलाइट के डीआरबी कॉलेज के सामने मनपा संचालित स्वीमिंग पूल में मंगलवार शाम 11 साल के बच्चे की डूबने से मौत हो गई। स्वीमिंग पूल में चार प्रशिक्षक होने के बावजूद बच्चे की डूबने से मौत, यह गंभीर लापरवाही है। मृतक बच्चा अपने माता-पिता की इकलौती संतान था।


मां की आंखों के सामने ही डूब गया चैतन्य
मूल महाराष्ट्र के रायगढ़ जिला एंव मगदल्ला स्थित सुमन स्वीट निवासी विट्ठल कनोजो का 11 वर्षीय पुत्र चैतन्य मंगलवार शाम मां प्रतिभाबेन के साथ स्वीमिंग सीखने गया था। मां सामने बैठी देख रही थी। मां को लगा कि बच्चा डूब रहा, तभी सिखाने वाले उसे बाहर निकाला। यद्यपि तब तक देर हो चुकी थी। उसकी नजरों के सामने ही बेटे की डूबने से मौत हो गई। मृतक चैतन्य लोकभारती स्कूल में 5वीं में पढ़ता था। पिता मार्केट की दुकान में सेल्समैन और मां फिजियोथैरापी के यहां नौकरी करती हैं। खटोदरा पूलिस ने शव को पीएम के लिए भेज दिया है। 


डॉक्टर ने किया प्रयास, लेकिन बचा नहीं सके 
एक डॉक्टर जो स्वीमिंग सीखने के लिए आया था, उसने चैतन्य काे बचाने का काफी प्रयास किया। डॉक्टर 108 एम्बुलेंस से अस्पताल ले गया, लेकिन बच्चे काे बचा न सका। 


सुरक्षा के इंतजाम नहीं 
8 करोड़ की लागत से मनपा ने 100 फीट चौड़ा और 200 फीट लंबा स्वीमिंग पुल बनाया है। लेकिन यहां सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं है। वेकेशन होने से शाम 4:30 से 5:15 बजे तक 30 से 40 बच्चे स्वीमिंग सीखने आते हैं। 


सांस फूलने की थी बीमारी 
11 साल के चैतन्य का वजन 72 किलो था। सीढ़ियां चढ़ने में उसकी सांस फूलने लगती थी। फैमिली डॉक्टर ने स्वीमिंग कराने की सलाह दी। प्रतिभा बेटे पांच दिन से स्वीमिंग सिखाने के लिए ला रही थी। मां को उम्मीद थी कि स्वीमिंग से उसका वजन कम होगा। 
 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना