--Advertisement--

केवल 2 रुपए में स्वादिष्ट भरपेट भोजन, घर-पहुंच सेवा भी

जलाराम जनकल्याण सेवा ट्रस्ट द्वारा 6 साल से 100 परिवारों को टिफिन सेवा का लाभ दिया जा रहा है।

Dainik Bhaskar

Apr 30, 2018, 03:31 PM IST
8 लोगों का स्टाफ और 3 रिक्शा किराए पर लेकर रसोई का काम किया जाता है। 8 लोगों का स्टाफ और 3 रिक्शा किराए पर लेकर रसोई का काम किया जाता है।

आणंद। भारतीय संस्कृति में भूखे को भोजन कराने की महिमा अपरंपार है। इसे सार्थक कर रहा है आणंद का जनकल्याण सेवा ट्रस्ट। इस ट्रस्ट द्वारा 6 साल से 400 जरूरतमंद और वृद्धों को घर बैठे केवल दो रुपए में टोकन चार्ज लेकर भोजन कराने और पहुंचाने का काम किया जा रहा है। मुस्लिम समाज द्वारा सब्जी की आपूर्ति….

इस आहार यज्ञ की विशेषता है कि भोजन के लिए अावश्यक वस्तुओं की एडवांस बुकिंग है। इसमें मुस्लिम समाज द्वारा बिना कोई चार्ज लिए सब्जी की आपूर्ति की जा रही है। यहां तैयार टिफिन में एक समय में दो समय का भोजन दिया जाता है। भोजन स्वादिष्ट और गुणवत्तायुक्त है। वृद्धों को ध्यान में रखकर सार के सभी दिन अलग-अलग मेनू रखा गया है। ट्रस्ट के अध्यक्ष महेंद्र भाई पटेल ने बताया कि सबसे पहले हमने 51 जरूरतमंदों का लक्ष्य रखा था। जिसमें अशक्त और वृद्ध शामिल थे। इसकी शुरुआत में ही अच्छा रिस्पांस मिला। तीन रिक्शों को किराए पर लिया गया है, जिसके माध्यम से दिया जाता है क्वालिटी फूड।

NRI के सहयोग से मिली सफलता

अध्यक्ष ने बताया कि हम किसी से दान नहीं मांगते। हम पहले कहते हैं कि पहले हमारा काम देखो। फिर कुछ लोगों ने हमारा काम देखा, तो उन्होंने मसाले, गेहूं, चावल, आटा समेत विभिन्न चीजें देना शुरू किया। इसके बाद कुछ एनआरआई ने नकद राशि देनी शुरू की। आज भी हमारा यही नियम है कि दान देने के पहले हमारा काम देख ले।

NRI के सहयोग से मिली सफलता। NRI के सहयोग से मिली सफलता।
अन्य लोग भी समय-समय पर अनाज की आपूर्ति करत हैं। अन्य लोग भी समय-समय पर अनाज की आपूर्ति करत हैं।
X
8 लोगों का स्टाफ और 3 रिक्शा किराए पर लेकर रसोई का काम किया जाता है।8 लोगों का स्टाफ और 3 रिक्शा किराए पर लेकर रसोई का काम किया जाता है।
NRI के सहयोग से मिली सफलता।NRI के सहयोग से मिली सफलता।
अन्य लोग भी समय-समय पर अनाज की आपूर्ति करत हैं।अन्य लोग भी समय-समय पर अनाज की आपूर्ति करत हैं।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..