डबल इंजन ट्रायल / मुंबई-दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस का स्पीड अप ट्रायल फेल

Speed up trial of Mumbai-Delhi Rajdhani Express failed
Speed up trial of Mumbai-Delhi Rajdhani Express failed
X
Speed up trial of Mumbai-Delhi Rajdhani Express failed
Speed up trial of Mumbai-Delhi Rajdhani Express failed

  • स्पीड टेस्ट में राजधानी फेल
  • सूरत 48 मिनट और दिल्ली 27 मिनट लेट पहुंची
  • यात्री हुए परेशान
  • मुंबई से 40 मिनट देरी से चलाकर समय पर पहुंचना था दिल्ली

Dainik Bhaskar

Dec 02, 2019, 12:11 PM IST

लवकुश मिश्रा, सूरत. 12951 मुंबई-दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस का स्पीड अप ट्रायल फेल हो गया है। अधिकारी मुंबई सेंट्रल से इस ट्रेन को 40 मिनट देरी से रवाना कर यह देखना चाहते थे कि यह दिल्ली अपने निर्धारित समय पर पहुंचती है या नहीं। लेकिन यह ट्रेन मुंबई से सूरत 48 मिनट और दिल्ली 27 मिनट की देरी से पहुंची। दिल्ली तक 27 मिनट लेट रही।


13 मिनट ही कवर हो पाए
वडोदरा से रतलाम के बीच स्पीड मेंटेन करने की कोशिश हुई जिससे 13 मिनट की रफ़्तार कवर हो गई थी। पश्चिम रेलवे ने डबल इंजन पुश-पुल ट्रायल के लिए पहली बार राजधानी के समय में परिवर्तन किया और इसे मुंबई सेंट्रल से निर्धारित समय से 40 मिनट देरी से रवाना करने का निर्णय लिया गया। अधिकारियों का कहना है कि डबल इंजन पुश-पुल मेथड से राजधानी एक्सप्रेस का लगातार स्पीड अप ट्रायल किया जा रहा है। इससे पहले हर ट्रायल में यह ट्रेन दिल्ली स्टेशन पर 40 मिनट पहले पहुंचती थी, लेकिन समय सारिणी में बदलाव नहीं होने से अन्य ट्रेनों को दिक्कत होती थी। इसके लिए शनिवार, 30 नवंबर के ट्रायल में इसे 40 मिनट देरी से रवाना कर स्पीड एवरेज निकालने का फैसला लिया। यह ट्रायल शुरू होने के पांच मिनट पहले ही फेल हो गया, जिससे राजधानी पूरी ट्रिप में लेट हो गई।


रेलवे ने बताया कि कैसे फेल हुआ यह ट्रायल
रेलवे के एक अधिकारी ने बताया कि टाइमिंग 40 मिनट रिशेड्यूल की गई थी। सभी तैयारियां पूरी हो चुकी थीं, लेकिन अंतिम समय में पिछले इंजन के डेड होने से उसे निकालना पड़ा, इसलिए यह ट्रायल कंडक्ट होने से पहले ही फेल हो गया। उसके बाद उसे फ्रंट इंजन से सामान्य तरीके से रवाना करना पड़ा और यह ट्रायल नहीं किया जा सका। अगली बार इसे फिर से किया जाएगा। तब 40 मिनट विलंब से रवाना करने के बाद स्पीड कवर होने का रिजल्ट मिल सकेगा।


जुलाई से लागू करनी है ये स्पीड
स्पीडअप ट्रायल को राजधानी एक्सप्रेस में अगले साल जुलाई से लागू करना है। जुलाई में भारतीय रेलवे की समय सारिणी में बदलाव किया जाएगा, ताकि स्पीड अप टाइम को एडजस्ट किया जा सके। पश्चिम रेलवे के अधिकारियों का कहना है कि योजना है कि ट्रेन के बिफोर पहुंचने की समस्या को दूर करने के लिए इसकी समय सारिणी को मुंबई सेंट्रल स्टेशन पर रिशडयूल कर दिया जाए और इसे 40 मिनट विलंब से चलाया जाए।


ट्रेन का पिछला इंजन डेड होने की वजह से दिल्ली से भी नहीं हो पाया स्पीड ट्रायल
शनिवार को मुंबई सेंट्रल से 12951 मुंबई सेंट्रल-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस को उसके निर्धारित समय शाम 5 बजे की बजाय 5.40 बजे का शेड्यूल तैयार किया गया। इसके लिए इसके आगे 6000 हॉर्स पावर वाले डब्ल्यू एपी 7 इलेक्ट्रिक लोको 30473 और पीछे 6000 हाॅर्स पावर का डब्ल्यूएपी 7 इलेक्ट्रिल लोको 30527 जोड़ा गया। इसे सूरत शाम 7.53 बजे पहुंचना था। शाम 5.30 बजे पीछे वाले इंजन में समस्या आ गई। अगले इंजन से जुड़ने वाला उसका कम्युनिकेशन सिस्टम फेल हो गया। इस इंजन को डेड कर निकाल दिया गया। इससे राजधानी को केवल 6000 हॉर्स पावर की ही ताकत मिल सकी और वह सूरत स्टेशन पर रात 8.41 बजे पहुंची। अगले दिन दिल्ली सुबह 8.35 बजे के बजाए सुबह 9.02 बजे पहुंची। ऐसे में यह ट्रायल फेल हो गया। इंजन डेड होने से 1 दिसंबर को दिल्ली से मुंबई के लिए वापसी में भी होने वाला ट्रायल नहीं हो सका।


दोबारा ट्रायल कब किया जाएगा तय नहीं 
12951 मुंबई-दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस को रिशेड्यूल कर चलाने का पहला ट्रायल ही फेल हो गया। पिछले इंजन के डेड होने से ट्रेन पूरी ट्रिप में लेट होती गई। पश्चिम रेलवे के अधिकारियों ने अभी यह स्पष्ट नहीं किया कि इसका दोबारा टाइमिंग रिशेड्यूल करके कब ट्रायल करेंगे। उधर आरडीएसओ ने भी पश्चिम रेलवे से राजधानी एक्सप्रेस की ट्रायल रिपोर्ट को देखकर समय संशोधन करने को कहा है। अगर रिपोर्ट पाॅजिटिव नहीं आती तो यह स्पीड लागू नहीं हो सकेगी।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना