• Hindi News
  • Gujarat
  • Stuck a check from the drop box, changed the details, then applied to redeem

सावधान! / ड्राप बॉक्स से चेक निकाला, डिटेल बदला, फिर भुनाने के लिए लगाया



नीचे का चेक कंप्यूटराइज्ड, ऊपर के चेक में बदली डिटेल नीचे का चेक कंप्यूटराइज्ड, ऊपर के चेक में बदली डिटेल
X
नीचे का चेक कंप्यूटराइज्ड, ऊपर के चेक में बदली डिटेलनीचे का चेक कंप्यूटराइज्ड, ऊपर के चेक में बदली डिटेल

  • बैंक की सतर्कता ने सामने आई जालसाजी
  • जानकारी केमिकल से मिटाकर नाम, तारीख और रकम बदली

Jul 13, 2019, 01:27 PM IST

सूरत. शहर में एक के बाद एक तीन मामले ऐसे आए हैं, जहां व्यापारियों ने पार्टी के नाम चेक भरकर बैंक के ड्रॉप बॉक्स में डाला। लेकिन, वहां से इन्हें चुरा लिया गया। फिर नाम और रकम बदलकर फिर से बैंक में लगाया गया। जब बड़ी रकम देखकर बैंक से खाताधारक के पास फोन किया गया, तब जाकर मामला खुला और बड़ा धोखा होने से बच गए। 


चेक ड्राप बॉक्स से चोरी किए गए
पता चला है कि तीनों ही मामलों में ड्रॉप बॉक्स से चेक चोरी हो गए थे। बाद में नोएडा में इन पर नाम और रकम को बदला गया। हालांकि अभी तक पुलिस को कोई सुराग नहीं मिला है। सभी चेक पर कम्प्यूटराइज्ड प्रिंटिंग से डिटेल भरी गई थी, जिसे केमिकल से मिटाया गया। फिर पेन से दोबारा सब कुछ भरा गया। 


बैंक ने बचा लिया
सलाबतपुरा में कपड़ा व्यापारी ने महिला के खिलाफ चेक चोरी कर 6.40 लाख रुपए की ठगी के प्रयास का मामला दर्ज करवाया। पर्वत पाटिया के सम्राट टाउनशिप निवासी विकास धूत ने बताया कि उनकी फर्म ने जीडी फैशन के नाम से 86,190 रुपए का चेक 17 जून को बनाया था। भुगतान की तारीख 5 जुलाई डाली थी। 11 जुलाई को लखनऊ की एचडीएफसी बैंक से फोन आया कि प्रियंका सोनकर नाम की व्यक्ति ने उसकी कंपनी के नाम का 6 लाख 40 हजार 870 रुपए का चेक दिया है। लेकिन, विकास ने बताया कि उसने इतनी बड़ी रकम का चेक दिया ही नहीं। फिर उन्होंने अपनी पर्वत पाटिया की एचडीएफसी बैंक से चेक को स्टॉप करवा दिया। ब्रांच मैनेजर ने लखनऊ से चेक की स्कैन की हुई कॉपी मंगवाई। चेक में प्रिंटेड जानकारी की जगह पेन से प्रियंका सोनकर का नाम लिखा था और रकम बदलकर 6 लाख 40 हजार 870 रुपए कर दी थी। जीडी फैशन के मैनेजर अंकुर सिंधानिया ने विकास को बताया कि उसने चेक सहारा दरवाजा के कोटक महिंद्रा के ड्रॉप बॉक्स में डाला था। बैंक की तरफ से जांच में ये मालूम हुआ कि ड्रॉप बॉक्स को तोड़कर अंदर से कई चेक चोरी किए गए हैं। इसके बाद उसने सलाबतपुरा पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज करवाई। शिकायतकर्ता ने बताया कि कुछ चेक चोरी के मामले महिधरपुरा पुलिस स्टेशन में दर्ज कराए हैं। घटना के बाद कुछ व्यापारी महिधरपुरा पुलिस स्टेशन गए थे। लेकिन पीआई पीए आर्य ने बताया कि उन्हें इस बारे में कोई जानकारी नहीं है। 


सीसीएल 4 से मिटाते हैं प्रिंटिंग डिटेल
बायो साइंस डिपार्टमेंट के एचओडी एसके टांक ने बताया कि चेक से कंप्यूटराइज्ड इंक हटाने के लिए कार्बन टेट्रा क्लोराइड (सीसीएल4) का इस्तेमाल किया जाता है। सिंपल इंक को मिटाने के लिए हाइड्रोजन पेरॉक्साइड का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन उससे कागज सफेद पड़ जाता है। लेकिन, कार्बन टेट्रा क्लोराइड से कागज पर इंक लगी थी या नहीं, ये बताना कठिन हो जाता है। 


1 लाख 8 हजार के अमाउंट को बना दिया 13.25 लाख का 
एनटीएम मार्केट के व्यापारी राजेश खरनानी ने आरकेटी मार्केट के जीडी फैशन नामक फर्म के नाम से 1 लाख 8 हजार 473 का चेक पिछले शनिवार को सुबह दिया था। पार्टी ने सहारा दरवाजा स्थित महिंद्रा बैंक के ड्रॉप बॉक्स में चेक डाला, जो चोरी हो गया और मंगलवार को क्लियरिंग में गया। चेक क्लियर होने आया तब बैंक से राजेश को फोन गया कि आपने 13 लाख 85 हजार का चेक किसी को दिया था? उन्होंने मना किया तो चेक रोक दिया गया। व्यापारी खरनानी ने बताया कि नोएडा से यह चेक क्लियरिंग में डाला गया था। अज्ञात चोर के खिलाफ मामला दर्ज करने की प्रक्रिया शुरू की गई। 


प्रिंटर से नाम और अमाउंट नहीं भरें, बल्कि पेन से लिखें सारी डिटेल 
कम्प्यूटर में पार्टी का नाम और अमाउंट टाइप कर चेक पर प्रिंटर से प्रिंट देने वालों को ज्यादा सावधान होने की जरूरत है। इस प्रकार के चेक पर आसानी से प्रिंट की गई जानकारी को केमिकल से साफ कर दिया जाता है। जबकि हाथ से लिखे हुए चेक से छेड़खानी करना असंभव है। इसलिए प्रिंटर पर पार्टी का नाम और अमाउंट लिखने वालों को सावधान होने की जरूरत है। 


उसी नाम से खाता खुलवाकर चुरा लिए 10 लाख 
ग्लोबल मार्केट के कपड़ा व्यापारी संजय टावरी के साथ करीब 8 माह पूर्व किसी तीसरे शख्स ने चेक चोरी कर अपने अकाउंट मे 10 लाख रुपए ट्रांसफर किए थे। संजय ने यूनियन बैंक में चेक डाला था। यहां से चेक चोरी किया और जिस खाते में रकम जानी थी, उसी नाम से आरोपी ने बैंक ऑफ महाराष्ट्र में अकाउंट खुलवाकर चेक डाल दिया था। यहां डिटेल मैच होने पर रकम ट्रांसफर कर दी गई। मामला आज भी सूरत के कोर्ट में चल रहा है। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना