अंगदान / महिला के ब्रेन डेड घोषित होते ही अंगों के दान से 5 ने पाया नया जीवन



अस्पताल में भावना बेन अस्पताल में भावना बेन
X
अस्पताल में भावना बेनअस्पताल में भावना बेन

  • परिवार ने अंगदान का निर्णय लिया
  • किडनी, लीवर और आंखें दान की गईं

Dainik Bhaskar

Apr 17, 2019, 12:36 PM IST

सूरत. वराछा के ममता पार्क में रहने वाली भावना बेन मूलजी भाई सवाणी (62) पड़ोस में हाेने वाली सत्संग में गई थीं। जहां भजन-कीर्तन के दौरान वे अचानक गिर पड़ी। उन्हें तुरंत हॉस्पिटल ले जाया गया। जहां उन्हें ब्रेन डेड बताया गया। इससे परिवार वालों ने उनके अंगों के दान की इच्छा जाहिर की। उनके अंगों से 5 लोगों को नवजीवन मिला।


किडनी, लीवर और आंखें दान की गई
मूल रूप से भावनगर जिले के उमराणा तहसील के भोजावदर की रहने वाली भावना बेन मूलजीभाई सवाणी की 3 संतानें हैं। जिसमें दो बेटी और एक बेटा है। जब भावना बेन पड़ोस के यहां सत्संग के दौरान अचानक गिर पड़ी, तो उन्हें अस्पताल ले जाया गया। जहां पता चला कि उनके मस्तिष्क पर गंभीर चोट पहुंची है। आगे की जांच में यह सामने आया कि दिमाग की नसें फट गई हैं। डॉक्टरों ने उन्हें ब्रेन डेड बताया। तब परिवार वालों ने उनके अंगदान की इच्छा जताई। फिर उनकी किडनी, लीवर और आंखों को किसी जरूरतमंद को देने के लिए कहा गया।


किडनी-आंखें अहमदाबाद में दान
भावना बेन की किडनी और लीवर का दान अहमदाबाद की आईकेडीआरसी में किया गया। आंखों का दान लोकदृष्टि चक्षु बैंक में किया गया। दान में एक किडनी दाहोद के अशोक दीटाभाई भूरिया, दूसरी किडनी खांडेला, राजस्थान के लखन नागरमल संखला और लीवर सूरत के धनश्याम दयालभाई गरंभा को दिया गया। अंग प्रत्यारोपण में अहमदाबाद के डॉ. प्रांजल माेदी, डाॅ. जमाल रिजवी और उनकी टीम ने सहयोग किया।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना