पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

घर के बाहर की तुलना में अंदर 30% से ज्यादा है प्रदूषण

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक तस्वीर - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक तस्वीर
  • इंडोर एयर क्वालिटी पर किया गया सर्वे
  • घरों कमर्शियल बिल्डिंगों, अस्पताल, मॉल, थिएटर में हुआ सर्वे

अहमदाबाद. भारत में हवा के प्रदूषण का प्रमाण हर साल बढ़ रहा है। हाल ही में अहमदाबाद और गांधीनगर में किए गए सर्वे के अनुसार बाहर की तुलना में घर के अंदर, अस्पताल, ऑफिस अथवा होटल, थिएटर, मॉल के अंदर 30 प्रतिशत से अधिक प्रदूषण पाया गया है।

इंटीरियर और एसी मुख्य कारण
इसके पीछे का मुख्य कारण अंदर का इंटीरियर और लगाए गए एसी में एयर प्यूरिफायर की खामी सामने आई है। देश में प हली बार इंडोर एयर क्वालिटी सर्वे का काम गुजरात में हुआ है। इंडोर एयर क्वालिटी इंडेक्स 50-70 पॉइंट का होना चाहिए लेकिन इसकी तुलना में यह 100 से अधिक आया है जो खतरनाक है। इंडीयन सोसाइटी ऑफ हिटिंग, रैफ्रिजरेटिग एंड एयर कंडीशनिंग इंजीनियर्स (इशरे) द्वारा 17 और 18 जनवरी को अहमदाबाद के इंडोर एयर क्वालिटी विषय पर सेमिनार का आयोजन किया गया है।

अंदर की हवा पर होगी चर्चा
इस कॉन्फरेंस में दुनियाभर के विशेषज्ञ हवा की गिरती गुणवत्ता और अंदर की हवा पर होने वाले असर के बारे में चर्चा करेंगे। इशरे और एसर द्वारा आयोजित इस कॉन्फ्रेंस के बारे में चेयरमैन पंकज धारकर ने बताया कि हाल ही में हम इंजीनियरिंग के विद्यार्थियों ने शहर के 251 बिल्डिंग में इंडोर एयर क्वालिटी पर सर्वे किया था। इंटेरियर के कारण प्रदूषण का अधिक खतरा, इंडोर एयर क्वालिटी इंडेक्स 50-70 पॉइंट होना चाहिए, लेकिन 100 से अधिक पाया गया; अस्पतालों मेें स्वच्छता, लेकिन सर्वाधिक एयर क्वालिटी इंडेक्स मिला
 

अस्पताल, रेस्टारेंट एवं शिक्षा संस्थानों को किया शामिल
सर्वे में अस्पताल, रेस्टॉरेंट, हॉटल, कॉर्पोरेट ऑफिस, हाऊस तथा शिक्षा संस्थानों को शामिल किया गया। 2 महीने तक चले इस सर्वे में 70 फीसदी ऑफिस और 30 फीसदी मकान को शामिल किया गया। हवा का प्रदूषण बाहर की तुलना में अंदर 30 फीसदी ज्यादा देखने को मिला। अस्पताल में स्वच्छता है लेकिन वहां सर्वाधिक एयर क्वालिटी इंडेक्स ज्यादा पाया गया है। इन सबके पीछे मुख्य कारण इंटेरियर, दीवार पर लगाया गया पेंइंट तथा एसी का फिल्टर ही ज्यादा प्रदूषण फैला रहा है। उन्होंने बताया कि भारत के पास इंडोर एयर क्वालिटी के संदर्भ में रियर टाइम डेटा उपलब्ध नहीं है लेकिन इंजीनियरिंग के स्टूडेंट चैप्टर्स एवं आर्किटेक्चरल सोसाइटी का सहयोग लिया गया है।
 

एसी का टेम्प्रेचर 24 तक रखने की सिफारिश
देश में एसी का उत्पादन 24 डिग्री से अधिक लाने के लिए बीआईए ने सिफारिश की है। इसके अलावा देश के लोगों को अपील की गई है कि अभी एसी का जो टेम्प्रेचर चल रहा है उससे एक डिग्री अधिक चलाने के लिए कहा गया है। - पंकज धारकर, प्रेसिडेंट, इशरे

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आपकी मेहनत व परिश्रम से कोई महत्वपूर्ण कार्य संपन्न होगा। किसी विश्वसनीय व्यक्ति की सलाह और सहयोग से आपका आत्म बल और आत्मविश्वास और अधिक बढ़ेगा। तथा कोई शुभ समाचार मिलने से घर परिवार में खुशी ...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser