विशाल रैली / राजकोट में दो कि.मी. लम्बे राष्ट्रध्वज के साथ तिरंगा यात्रा निकाली गई

दो कि.मी. लम्बा राष्ट्रध्वज आकर्षण का केंद्र बना दो कि.मी. लम्बा राष्ट्रध्वज आकर्षण का केंद्र बना
आई सपोर्ट सीएए के बैनर के साथ लोगों ने इस रैली में हिस्सेदारी की आई सपोर्ट सीएए के बैनर के साथ लोगों ने इस रैली में हिस्सेदारी की
सीएम ने हवा में बेलून छोड़कर तिरंगा यात्रा आरंभ की थी सीएम ने हवा में बेलून छोड़कर तिरंगा यात्रा आरंभ की थी
राष्ट्रध्वज के साथ महिलाओं ने भी रैली में भाग लिया राष्ट्रध्वज के साथ महिलाओं ने भी रैली में भाग लिया
तिरंगा यात्रा के पहले सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए गए थे, जिसमें बच्चियों ने भारत माता की पोशाक पहन रखी थी तिरंगा यात्रा के पहले सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए गए थे, जिसमें बच्चियों ने भारत माता की पोशाक पहन रखी थी
X
दो कि.मी. लम्बा राष्ट्रध्वज आकर्षण का केंद्र बनादो कि.मी. लम्बा राष्ट्रध्वज आकर्षण का केंद्र बना
आई सपोर्ट सीएए के बैनर के साथ लोगों ने इस रैली में हिस्सेदारी कीआई सपोर्ट सीएए के बैनर के साथ लोगों ने इस रैली में हिस्सेदारी की
सीएम ने हवा में बेलून छोड़कर तिरंगा यात्रा आरंभ की थीसीएम ने हवा में बेलून छोड़कर तिरंगा यात्रा आरंभ की थी
राष्ट्रध्वज के साथ महिलाओं ने भी रैली में भाग लियाराष्ट्रध्वज के साथ महिलाओं ने भी रैली में भाग लिया
तिरंगा यात्रा के पहले सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए गए थे, जिसमें बच्चियों ने भारत माता की पोशाक पहन रखी थीतिरंगा यात्रा के पहले सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए गए थे, जिसमें बच्चियों ने भारत माता की पोशाक पहन रखी थी

  • राष्ट्रीय एकता समिति का आयोजन
  • देश विरोधी नारे लगाने वालों को करारा जवाब
  • साधू-संतों एवं महिलाओं ने भी हिस्सा लिया
  • सीएम ने कांग्रेस पर किए प्रहार

दैनिक भास्कर

Feb 13, 2020, 12:04 PM IST

राजकोट. राष्ट्रीय एकता समिति द्वारा गुरुवार को तिरंगा यात्रा का आयोेजन किया गया। रेसकोर्स रिंग रोड सरदार वल्लभभाई पटेल के स्टेच्यू से मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने इसे हरी झंडी दिखाई। इस रैली में दो कि.मी. लम्बा तिरंगा आकर्षण का केंद्र रहा। देश के टुकड़े-टुकड़े करने का नारा लगाने वालों के लिए यह एक करारा जवाब था।


हजारों लोगों ने की शिरकत
दो कि.मी. लम्बे तिरंगे के साथ निकली यह रैली जिला पंचायत चौक, याज्ञिक रोड, मालवीय चौक होते हुए त्रिकोण बाग से महात्मा गांधी म्युजियम और वहां से जुबली महात्मा गांधी की प्रतिमा पर जाकर समाप्त हुई। इस रैली में हजारों लोगों ने शिरकत की। लोगों ने अपने हाथों पर आई सपोर्ट सीएए का बैनर थाम रखा था। इस रैलीे में काफी संख्या में महिलाओं ने भी भागीदारी की।
 

सीएम ने किए कांग्रेस पर प्रहार
रैली को हरी झंडी दिखाने के पहले सीएम विजय रूपाणी ने कांग्रेस पर कड़े प्रहार किए। उन्होंने कहा कि सीएए के समर्थन में मुस्लिम समाज, जैन समाज, हिंदू समाज सभी आगे आएं हैं। केंद्र सरकार का यह ऐतिहासिक फैसला है। इस तरह की रैली राज्य के सभी शहरों में निकल रही है। सीएए को राज्य में व्यापक समर्थन मिला है। उधर कांग्रेस मुस्लिमों को गुमराह कर रही है। सीएए नागरिकता देने का कानून है, नागरिकता लेने का नहीं, इसे समझना आवश्यक है। इससे लोगों को डरने की जरूरत नहीं।
 

साधू-संत भी रैली में आए
रैली में साधू-संतों ने भी काफी संख्या में शिरकत की। इसमें मुंजका आश्रम के स्वामी परमानंद, धारेश्वर मंदिर भक्तिनगर तथा रणछोड़दास आश्रम के संत-महंत तथा अनेक सेवकगण शामिल थे। इसके अलावा कई सामाजिक संस्थाओं, सरकारी अधिकारियों ने भी भाग लिया। 28 एनआरआई भी इस रैेली में शामिल हुए।
 

वाहनों के आवागमन पर प्रतिबंध
सीएए के समर्थन में तिरंगा यात्रा को लेकर शहर के रास्तों में यातायात समस्या न हो, इसलिए कई रास्तों पर वाहनों के आवागमन पर रोक लगा दी गई थी। कई रास्तों को डायवर्ट कर दिया गया था। रेसकोर्स मेला ग्राउंड, चौधरी हाईस्कूल ग्राउंड और रिलायंस ग्राउंड पर वाहन पार्क करने की व्यवस्था की गई थी।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना