Hindi News »Gujarat »Rajkot» 3 Daughter Taken Funeral Ceremony Of Father In Deesa

पिता के शव को कांधा देकर 3 बेटियों ने निभाया पुत्रधर्म

रविवार की सुबह इन तीनों बेटियों ने रोते हुए किया पिता का अंतिम संस्कार।

Dainikbhaskar.com | Last Modified - Apr 09, 2018, 12:46 PM IST

  • पिता के शव को कांधा देकर 3 बेटियों ने निभाया पुत्रधर्म
    +2और स्लाइड देखें
    पिता के शव को कांधा देती बहनें।

    डीसा। यहां पिता की मौत पर उनकी 3 बेटियों ने उनके शव को कांधा देकर फिर उनका अंतिम संस्कार कर पुत्र का धर्म निभाया। इस तरह से उन्होंने पुत्रहीन पिता की अंतिम यात्रा में शामिल होकर एक नया उदाहरण पेश किया। 6 साल पहले इन्हीं बेटियों ने अपनी मां के शव को भी कांधा देकर उनका अंतिम संस्कार किया था। आंसुओं से भरी आंखों से दी पिता को अंतिम विदाई…

    पुरुषप्रधान समाज में आज भी कई स्थानों पर महिलाओं को जाना वर्जित है। ऐसा ही एक स्थान है श्मशान। यहां के वेलुनगर के पास मधुकुंज सोसायटी में रहने वाले 89 वर्षीय कांतिलाल कालीदास पंचीवाला का शनिवार को निधन हो गया। उनका कोई बेटा नहीं था, इसलिए उनकी तीन बेटियों चंद्रकला, नीता और मनीषा ने पुत्रधर्म का पालन करते हुए उनके शव को कांधा दिया और उनका अंतिम संस्कार भी किया।

    6 साल पहले मां की अर्थी का दिया था कांधा

    6 साल पहले इन तीनों बहनों की मां का निधन हो गया, तब भी इन्हीं लोगों ने मां की अर्थी का कांधा देकर उनका अंतिम संस्कार किया था। सबसे बड़ी बहन चंद्रकला ने बताया कि हमारा काेई भाई नहीं था, इसलिए हम तीनों बहनों ने घर की सारी जिम्मेदारी संभाल रखी थी। इस काम में हमारे पति भी हमारा पूरा सहयोग करते हैं। माता-पिता का अंतिम संस्कार कर हमने उनकी अंतिम इच्छा पूरी की है।

  • पिता के शव को कांधा देकर 3 बेटियों ने निभाया पुत्रधर्म
    +2और स्लाइड देखें
    इस तरह से निभाया पुत्रधर्म।
  • पिता के शव को कांधा देकर 3 बेटियों ने निभाया पुत्रधर्म
    +2और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Rajkot

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×