--Advertisement--

डेढ़ लाख की रिश्वत लेते हुए डेप्युटी कलेक्टर रंगे हाथ पकड़े गए

रेत चाेरों को एक महीने तक शांति से काम करने की छूट देने के लिए मांगे थे ढाई लाख रुपए।

Danik Bhaskar | Mar 27, 2018, 12:04 PM IST
वी.के.उपाध्याय-डीस के नायक कलेक्टर। वी.के.उपाध्याय-डीस के नायक कलेक्टर।

पालनपुर। रेत की चोरी करते हुए पकड़े गए डम्पर और जेसीबी को छुड़ाने के लिए और एक महीने तक अपना काम शांति से करने देने के लिए डीसा के डेप्युटी कलेक्टर सोमवार को सर्किट हाउस में डेढ़ लाख रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ पकड़े गए। उन्होंने इसके पहले एक लाख रुपए ले लिए, यह दूसरी किस्त की राशि थी। एसीबी ने बिछाया जाल…

डीसा के डेप्युटी कलेक्टर वी.के. उपाध्याय ने कुछ दिनों पहले रेत से भरे ओवरलोड डम्बर को हिटाची मशीन के साथ पकड़ा था। इसके बाद उन्होंने लीजधारक पर कार्रवाई के बदले में डम्पर को छोड़कर और एक महीने तक शांति से काम करने के लिए ढाई लाख रुपए की मांग की। एक लाख रुपए सर्किट हाउस के वाल्मीकि कक्ष में पहले ही ले लिए थे। जब शेष राशि डेढ़ लाख रुपए देने की बारी आई, तो आवेदक ने एसीबी से शिकायत की। इस बपर एसीबी ने जाल बिछाया और डेढ़ लाख रुपए की रिश्वत लेते हुए उन्हें रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। आवेदक ने बनासकांठा एबीसी को शनिवार को शिकायत दर्ज करवाई थी।

कैमरे के सामने आने से ऐसे छिपाया मुंह। कैमरे के सामने आने से ऐसे छिपाया मुंह।
चेहरा छिपाने के लिए रुमाल से मुंह ढांकते हुए। चेहरा छिपाने के लिए रुमाल से मुंह ढांकते हुए।
वी.के उपाध्याय ने लीजधारक से रिश्वत के डेढ़ लाख रुपए लेने के लिए उसे सर्किट हाउस में बुलाया था। वी.के उपाध्याय ने लीजधारक से रिश्वत के डेढ़ लाख रुपए लेने के लिए उसे सर्किट हाउस में बुलाया था।