Hindi News »Gujarat »Rajkot» Funaral Held Of Dalit Man Who Killed Just Because Buy Hourse In Bhavnagar

युवक के पिता ने कहा-‘ऐसा कोई कानून है क्या कि दलित घोड़ी नहीं रख सकते’

दलित युवक की निकली अंतिम यात्रा, गांव में अजीब-सी स्थिति।

Dainikbhaskar.com | Last Modified - Mar 31, 2018, 12:30 PM IST

  • युवक के पिता ने कहा-‘ऐसा कोई कानून है क्या कि दलित घोड़ी नहीं रख सकते’
    +6और स्लाइड देखें
    दलित युवक की शवयात्रा।

    भावनगर। दलित युवक ने घोड़ी खरीदी, इस पर ऊंची जाति के लोगों को ऐतराज था। इस बात को लेकर ऊंची जाति के लोगों ने दलित युवक की हत्या कर दी। घोड़ी को भी मार डाला। इससे युवक के परिवार वालों ने जब तक आरोपी पकड़े नहीं जाते, तब तक लाश को लेने से इंकार कर दिया था। बाद में समझाइश के बाद लाश को स्वीकारा। आज जब युवक की अंतिम यात्रा निकली, तो उसमें एक घोड़ी को भी शामिल किया गया। क्या कहा मृतक के पिता ने…

    इस मामले पर मृतक प्रदीप राठौड़ के पिता कालूभाई मूलजीभाई राठौड़ ने उमराणा पुलिस थाने में की गई शिकायत में संदेह के रूप में टींबी गांव के नटुभा तथा पीपराणी के एक दरबार का जिक्र किया है। पुलिस ने नटुभा को हिरासत में ले लिया है। मृतक के पिता ने कहा है कि ऐसा कोई कानून नहीं है, जिसमें दलित घोड़ी नहीं रख सकते। उन्होंने आराेपियों को जल्द से जल्द पकड़कर उन पर सख्त कानूनी कार्रवाई की मांग की।

  • युवक के पिता ने कहा-‘ऐसा कोई कानून है क्या कि दलित घोड़ी नहीं रख सकते’
    +6और स्लाइड देखें
    घर का माहौल
  • युवक के पिता ने कहा-‘ऐसा कोई कानून है क्या कि दलित घोड़ी नहीं रख सकते’
    +6और स्लाइड देखें
    युवक की नृशंस हत्या।
  • युवक के पिता ने कहा-‘ऐसा कोई कानून है क्या कि दलित घोड़ी नहीं रख सकते’
    +6और स्लाइड देखें
  • युवक के पिता ने कहा-‘ऐसा कोई कानून है क्या कि दलित घोड़ी नहीं रख सकते’
    +6और स्लाइड देखें
  • युवक के पिता ने कहा-‘ऐसा कोई कानून है क्या कि दलित घोड़ी नहीं रख सकते’
    +6और स्लाइड देखें
  • युवक के पिता ने कहा-‘ऐसा कोई कानून है क्या कि दलित घोड़ी नहीं रख सकते’
    +6और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Rajkot

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×