Hindi News »Gujarat »Rajkot» The Mountain Of High Coconut In This Temple Of Gujarat, See Dron Pics

चार मंजिला जितना ऊंचा नारियल का पहाड़, देखे ड्रोन तस्वीरें

हर शनिवार को गुजरात के इस मंदिर में 2000 नारियल चढ़ाए जाते हैं, लिम्का बुंक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज होने की तैयारी।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Dec 04, 2017, 01:05 PM IST

  • चार मंजिला जितना ऊंचा नारियल का पहाड़, देखे ड्रोन तस्वीरें
    +4और स्लाइड देखें

    पालनपुर। यह चार मंजिला जितना ऊंचा पहाड़ नहीं, बल्कि उत्तर गुजरात के बनासकांठा जिले में गेला नामक गांव में हनुमानजी के मंदिर में स्थित नारियल का ढेर है। दूर से देखने पर यह नारियल का पर्वत दिखाई देता है। इसका एक ही कारण है कि इस मंदिर में नारियल बिना छिले ही चढ़ाए जाते हैं। हर शनिवार को यहां 2000 नारियल चढ़ाए जाते हैं। बारिश में दुर्गंध नहीं...

    इतने सारे नारियल होने के बाद भी बारिश में इन नारियल से दुर्गंध नहीं आती। दो साल पहले अहमदाबाद से एक टीम यहां आई थी, जो यह जांच करना चाहती थी कि नारियल के इस पहाड़ से बारिश का पानी मिल जाने के बाद किसी तरह से स्वास्थ्य को लेकर किसी प्रकार की हानि तो नहीं हो रही है, पर उनकी जांच में ऐसा कुछ भी आपत्तिजनक नहीं निकला। बिना छिले नारियल चढ़ाने की परंपरा यहां 100 साल से जारी है। नारियल के इस पहाड़ को लिम्का बुक में लाने की तैयारी चल रही है। इस मंदिर में जो आवक होती है, उसका उपयोग यहां की गौशाला में किया जाता है।

    आगेकी स्लाइड्स में देखें PHOTOS

  • चार मंजिला जितना ऊंचा नारियल का पहाड़, देखे ड्रोन तस्वीरें
    +4और स्लाइड देखें
  • चार मंजिला जितना ऊंचा नारियल का पहाड़, देखे ड्रोन तस्वीरें
    +4और स्लाइड देखें
  • चार मंजिला जितना ऊंचा नारियल का पहाड़, देखे ड्रोन तस्वीरें
    +4और स्लाइड देखें
  • चार मंजिला जितना ऊंचा नारियल का पहाड़, देखे ड्रोन तस्वीरें
    +4और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Rajkot News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: The Mountain Of High Coconut In This Temple Of Gujarat, See Dron Pics
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Rajkot

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×