--Advertisement--

आज विश्व जल दिवस: पानी के लिए मासूम बने खतरों के खिलाड़ी

Dainik Bhaskar

Mar 22, 2018, 02:08 PM IST

ढाई किलोमीटर लम्बे साइफन में लीकेज से पानी की बरबादी जारी है।

आज विश्व जल दिवस। आज विश्व जल दिवस।

पाटण। पाटण के हारिज तहसील में सरवाल गांव में पानी का बोर बंद हो जाने से लोगों को पीने के पानी के लिए भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। बच्चे स्कूल न जाकर पानी की समस्या को सुलझाने में लगे हैं। कई स्थानों पर पानी प्राप्त करने के लिए बच्चों को अपनी जान जोखिम में डालनी पड़ती है। इस तरह से वे खतरों के खिलाड़ी बन गए हैं। गुजरात के जलाशयों में पानी की मात्रा 38.57%...

-2017 के मार्च में राज्य के जलाशयों में पानी की मात्रा 45% से अधिक था।

-बारिश के आगमन तक राज्य के जलाशयों में पानी की मात्रा करीब 20% हो जाएगी।

नर्मदा डेम में पानी की मात्रा केवल 32%

2017 के मार्च महीने में नर्मदा डेम में 45 प्रतिशत से अधिक पानी था, बारिश के आगमन तक डेम में करीब 17 से 18 प्रतिशत पानी बचेगा।

सांतलपुर में पानी की बरबादी

सांतलपुर तहसील में मढ़त्रा से फांगली, जजाम, पाटणका गांव तक ढाई किलोमीटर लम्बी अंडरग्राउंड साइफन बनाया गया है। इससे कच्छ तक पानी पहुंचाया जाता है। पाटणका के पास इस साइफन से काफी पानी बेकार बह जाता है। इससे आसपास के इलाकों में कई स्थानों पर पानी भर जाता है। यह पानी वन्यप्राणियों के लिए आशीर्वादस्वरूप बन सकता है, पर इसे किसानों को नहीं दिया जाता। इससे इस पानी की बरबादी ही हो रही है।

बेकार जा रहा है नर्मदा केनाल का पानी। बेकार जा रहा है नर्मदा केनाल का पानी।
पाटणका का साइफन लीकेज। पाटणका का साइफन लीकेज।
X
आज विश्व जल दिवस।आज विश्व जल दिवस।
बेकार जा रहा है नर्मदा केनाल का पानी।बेकार जा रहा है नर्मदा केनाल का पानी।
पाटणका का साइफन लीकेज।पाटणका का साइफन लीकेज।
Astrology

Recommended

Click to listen..