--Advertisement--

देवर-भाभी के बीच था Blind Love, एक नहीं हो पाए, इसलिए जिंदा जले

कुंवारे छगन का मौसेरे भाई की पत्नी और दो संतानों की मां विजया से था प्यार।

Danik Bhaskar | Nov 16, 2017, 01:16 PM IST
भाभी विजया और देवर छगन की फाइल तस्वीर। भाभी विजया और देवर छगन की फाइल तस्वीर।

राजकोट। मोरबी रोड पर गवरीदड के पास आईओसी के पास मंगलवार की रात एक महिला और पुरुष की लाश जली हुई हालत में मिली। पुलिस ने दोनों की पहचान छगन भीखाभाई वाघेला(25), और विजया बेन हसमुखभाई सोंदरवा(28) के रूप में हुई। दोनों एक-दूसरे से बहुत प्यार करते थे, पर एक नहीं हो पाने के डर से दोनों ने अग्निस्नान कर लिया। छगन की शादी नहीं हुई थी…

पुलिस के अनुसार प्रद्युम्न पार्क के पास भीमरावनगर-2 में छगनभाई भीखाभाई वाघेला 3 भाइयों में बड़ा और अविवाहित था। पिता की मौत हो चुकी थी। छगन जामनगर रोड पर साढ़ियापुल के पास धोबी की दुकान में काम करता था। उसके घर के सामने ही उसका मौसेरे भाई की पत्नी और दो संतानों की मां विजया बेन के साथ उसकी आंख लड़ गई। दोनों एक-दूसरे से बेइंतहा प्यार करने लगे।

विजयाबेन ने बनाया बहाना

छगन की मां अमरत बेन किसी काम से सिविल हॉस्पिटल गई थी। उनके साथ उसकी बहन की पुत्रवधू विजयाबेन भी थीं। विजया बेन ने अमरत बेन को हॉस्पिटल में बिठा दिया और कहा कि कुछ देर में आती हूं। इधर धोबी की दुकान में काम करने वाले छगन ने अपने सेठ से बाइक मांगी। सेठ किरीटभाई के अनुसार जब वह वापस लौटा, तो उसके साथ एक महिला थी। महिला कुछ दूर खड़ी थी, छगन ने बाइक वापस करते हुए सेठ से कहा कि हम लोग अब दवा पीने वाले हैं, हमें ढूंढने की कोशिश मत करना। उसके बाद दोनों चले गए। इधर अमरत बेन ने काफी देर तक विजया बेन की राह देखी। नहीं आने पर उसने परिवार वालों को यह बात बताई, तब उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट पुलिस थाने में लिखवाई गई। काफी देर बाद रात में दोनों की लाश जली हुई हालत में मिली।

आगे की स्लाइड्स में देखें PHOTOS
मंगलवार की रात दोनों ने खुद पर केरोसीन डालकर लगा ली आग। मंगलवार की रात दोनों ने खुद पर केरोसीन डालकर लगा ली आग।
दोनों की लाश झुलसी हुई मिली। दोनों की लाश झुलसी हुई मिली।
पुलिस ने लाशों को फोरेंसिक पीएम के लिए भेजा। पुलिस ने लाशों को फोरेंसिक पीएम के लिए भेजा।
भाभी-देवर के बीच था प्यार। भाभी-देवर के बीच था प्यार।
समाज एक नहीं होने देगा, इसके डर से दोनों ने किया अग्निस्नान। समाज एक नहीं होने देगा, इसके डर से दोनों ने किया अग्निस्नान।