--Advertisement--

MP का गुजरात को पानी देने से साफ इंकार, नर्मदा में जलसंकट

भाजपा सरकार पानी के इस्तेमाल में बुरी तरह से विफल रही है, इसका खामियाजा किसानों को भुगतना पड़ रहा है।

Danik Bhaskar | Apr 11, 2018, 12:40 PM IST
MPसरकार ने पानी देने से साफ मना कर दिया। MPसरकार ने पानी देने से साफ मना कर दिया।

राजपीपला। गुजरत ने मध्यप्रदेश सरकार से 300 क्यूसेक पानी छोड़ने की मांग की थी, जिसे ठुकरा दिया गया। इससे सरकार केे माथे पर चिंता की लकीरें खिंच गई हैं। पूरे गुजरात पर जलसंकट के बादल घिर गए हैं। 28 मार्च 2018 को मध्यप्रदेश से 600 क्यूसेक पानी छोड़ा गया था, जिससे कुछ राहत मिली थी। पर अब जल संकट गहरा गया है। आवक 598 क्यूसेक और जावक 2936 क्यूसेक…

मंगलवार को डेम का लेबल 105.12 मीटर पहुंचने पर सरकार चिंतित हो गई। गुजरात सरकार ने आैर 3000 क्यूसेक पानी छोड़ने की मांग मध्यप्रदेश सरकार से की थी, पर एमपी सरकार ने साफ मना कर दिया। पानी की आवक घट गई है। इससे जल संकट गहरा गया है। इस समय गुजरात में पानी की आवक केवल 598 क्यूसेक है। दूसरी ओर IBPT से 2936 क्यूसेक पानी की जावक हो रही है।

5 दिनों में डेम में पानी की आवक-जावक

तारीख आवक जावक

05-04- 18 2,936 3,000

06-04- 18 2,530 3,300

07-04- 18 1,436 2,200

08-04- 18 1,365 2,005

09-04- 18 800 2,936

पानी के मामले में भाजपा-कांग्रेस आमने-सामने

राज्य में पानी की समस्या को लेकर भाजपा-कांग्रेस आमने-सामने आ गए हैं। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अमित चावड़ा ने सरकार पर आक्षेप लगाया है कि भाजपा सरकार पानी के इस्तेमाल में बुरी तरह से विफल रही है, इसका खामियाजा किसानों को भुगतना पड़ रहा है। सूरत में किसान की आत्महत्या दु:खद है। इस पर प्रदेश भाजपाध्यक्ष जीतू वाघाणी ने कहा कि प्रदेश सरकार प्रजा के लिए पानी की व्यवस्था पहले से ही कर ली है।

अब चुनाव में एम पी करेगा पानी की बरबादी

चुनाव की तारीख घोषित हुई तब कम पानी मिलने की सरकार की खबर थी। इसके बाद भी पानी की बरबादी रोकी नहीं गई। सी-प्लेन उडाया, सबकी के तहत डेम भरे गए, अब मध्यप्रदेश सरकार ने पानी देने के लिए साफ इंकार कर दिया है। अब वहां चुनाव हैं, तो वह पानी की बरबादी करेगा।

सीजे चावड़ा, कांग्रेस के गांधीनगर उत्तर के विधायक

कांग्रेस-भाजपा आमने सामने। कांग्रेस-भाजपा आमने सामने।
पानी की अावक कम, जावक ज्यादा। पानी की अावक कम, जावक ज्यादा।