--Advertisement--

बेटी के लिए चीते से भिड़ गया पिता, 1 KM तक पीछा कर छुड़ाया

इतनी मशक्कत के बाद भी बेटी काे बचाया नहीं जा सका।

Dainik Bhaskar

Apr 11, 2018, 01:38 PM IST
बच्ची को बचाने के लिए पिता रूपेश भाई चीते से भिड़ गए। बच्ची को बचाने के लिए पिता रूपेश भाई चीते से भिड़ गए।

ऊना। ऊना के मोठा गांव में बाडी इलाके में माता-पिता और बुआ के सामने ही घर में घुसकर चीता 18 महीने की बच्ची को उठाकर ले गया। तब पिता ने एक किलोमीटर तक चीते का पीछा कर बेटी को छुड़ाया। इस दौरान पिता ने बेटी को छुड़ाने के लिए चीते से भिड़ने का साहस दिखाया। इसके बाद भी बेटी को बचाया नहीं जा सका। तब पिता रूपेश भोजन कर रहे थेे…

हीरा कारीगर रूपेश भाई गोस्वामी मोठा गांव में पत्नी ताराबेन के साथ रहते हैं। मंगलवार की रात को जब वे भोजन कर रहे थे, तब वहीं पर उनकी पत्नी ताराबेन और 18 महीने की बेटी रिद्धी भी थे। इतने में अचानक वहां चीता आ पहुंचा, वह रिद्धी को लेकर भाग गया। यह देखकर रुपेश भाई भोजन छोड़कर चीते के पीछे भागे। उन्होंने चीते पर हथियार से हमला किया, जिससे उसने रिद्धी को छोड़ दिया। रुपेश भाई ने खून से लथपथ रिद्धि को तुरंत अस्पताल पहुंचाया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। इस घटना से पूरे परिवार में शोक व्याप्त हो गया।

माता-पिता को मनाने गए थे

रुपेश भाई के माता-पिता उससे नाराज थे। इसलिए रुपेश भाई अपने माता-पिता को मनाने के लिए पत्नी तारा और बेटी रिद्धि को लेकर उन्हें मनाने गए थे। वहां रात के समय भोजन के वक्त यह घटना हुई।

ताराबेन प्रेग्नेंट है

बेटी की मौत् मां ताराबेन पूरी तरह से टूट चुकी हैं। इस पर वे 8 महीने की प्रेग्नेंट हैं। ऐसे में आने वाली संतान को बचा पाना मुश्किल लग रहा है।

आखिर बच्ची को बचाया नहीं जा सका। आखिर बच्ची को बचाया नहीं जा सका।
नाराज माता-पिता को मनाने गए थे रूपेश भाई। नाराज माता-पिता को मनाने गए थे रूपेश भाई।
X
बच्ची को बचाने के लिए पिता रूपेश भाई चीते से भिड़ गए।बच्ची को बचाने के लिए पिता रूपेश भाई चीते से भिड़ गए।
आखिर बच्ची को बचाया नहीं जा सका।आखिर बच्ची को बचाया नहीं जा सका।
नाराज माता-पिता को मनाने गए थे रूपेश भाई।नाराज माता-पिता को मनाने गए थे रूपेश भाई।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..