--Advertisement--

ट्रैफिक क्रेन ने 14 बार पार्किंग स्पॉट पर खड़ी बाइक उठाई, मनमानी रोकने छोड़ दी जॉब, अब 2 साल में छुड़वा चुके हैं 500 बाइक

ट्रैफिक पुलिस की मनमानी के खिलाफ बनाया व्हाट्सएप ग्रुप, शिकायतें मिलने पर तुरंत वाहन छुड़ाने पहुंच जाते हैं।

Danik Bhaskar | Jun 27, 2018, 12:20 AM IST
सुरेश नंदवानी सुरेश नंदवानी

सूरत. सुरेश नंदवानी अपनी नौकरी छोड़कर पार्किंग में खड़ी ट्रैफिक पुलिस द्वारा उठाई गई बाइक छुड़ाने का काम करते हैं। पिछले दो साल में वह 500 लोगों की बाइक ट्रैफिक पुलिस से छुड़ा चुके हैं। वह एक प्राइवेट कंपनी में डेब्ट रिकवरी (लोन) मैनेजर की नौकरी करते थे। नंदवानी बताते हैं कि ट्रैफिक पुलिस की क्रेन ने लगातार 14 बार उनकी बाइक उठाई, जबकि वह पार्किंग में खड़ी थी। उन्होंने सोचा कि ट्रैफिक पुलिस की इस मनमानी से बड़ी संख्या में लोग परेशान तो होते ही हैं, साथ ही उन्हें उस गुनाह के लिए जुर्माना भरना पड़ता है जो उन्हें किया ही नहीं है। ऐसे छुड़ाते थे गाड़ियां...

- नंदवानी ने बताया,मैं अपनी बाइक खड़ी करने से पहले उस स्थान की तस्वीर खींच लेता था, फिर जाकर संबंधित अधिकारी को दिखाता था। वे ट्रैफिक क्रेन की गलती मानने को मजबूर हो जाते थे और गाड़ी बिना किसी जुर्माना के छोड़ देते थे।

- रोज ऐसे सैकड़ों लोगों के वाहन सही जगह पर खड़े होने के बावजूद क्रेन द्वारा उठा लिए जाते हैं। बाद में उन्हें बिना गलती के जुर्माना भरना पड़ता है।

- नंदवानी ने एक व्हाट्सएप ग्रुप बनाया है, जिस पर लोगों की शिकायतें आने के बाद वह वाहन छुड़ाने पहुंच जाते हैं। अगर व्यक्ति ने सही जगह पर वाहन खड़ा किया है तो वह मदद करते हैं, लेकिन गलत जगह पर वाहन पार्क किया गया होता है तो वह मदद करने से मना कर देते हैं।

कमिश्नर, सांसद और कलेक्टर को लिखे लेटर, लेकिन ध्यान ही नहीं दिया

- समाज सेवी सुरेश नंदवानी ने सांसद सीआर पाटिल और दर्शना जरदोष, मनपा कमिश्नर, कलेक्टर को ट्रैफिक क्रेन की मनमानी पर रोक लगाने के लिए लेटर लिखा, लेकिन कोई जवाब नहीं आया तो उन्होंने लोगों की मदद के लिए आल इंडिया टू व्हीलर सोशल ग्रुप नाम से एक व्हाट्सएप ग्रुप बनाया। इसके माध्यम से आने वाली शिकायतों पर वह वाहन छुड़ाने पहुंच जाते हैं।

सावधानी: सही स्थान पर वाहन खड़ा कर उसकी फोटो खींच लें

- सुरेश नंदवानी ने लोगों अपील की कि यदि आप किसी फुटपाथ पर अपनी दोपहिया वाहन पार्किंग कर रहे हैं, तो उसकी एक फोटो खींच लें। उसके बाद यदि ट्रैफिक क्रेन आपकी गाड़ी उठाती है तो हमारे व्हाट्सएप नंबर पर इसकी सूचना दें और अपनी लोकेशन बताएं। इसके बाद हम आपका वाहन मुफ्त में छुड़ाएंगे। हमारा मकसद ट्रैफिक क्रेन वालों की मनमानी को रोकना है।