--Advertisement--

80 वर्षीय वृद्धा पर फेंका तेजाब, पंचायत ने निकाला था जाति से इसलिए किसी ने नहीं की मदद

यह तस्वीर आपको विचलित कर सकती है लेकिन छापना इसलिए जरूरी है ...क्योंिक तेजाब ने झुलसी बाई का चेहरा नहीं संवेदनाओं को जला

Dainik Bhaskar

Apr 02, 2018, 08:27 AM IST
80 वर्षीय महिला 80 वर्षीय महिला

निंबाहेड़ा(सूरत). 60 वर्षीय महिला पर गांव के ही व्यक्ति ने तेजाब फेंक दिया। उसका चेहरा व पेट बुरी तरह झुलस गए उसकी बेटी ने गांव में पुकार लगाई पर कोई मदद करने आगे नहीं आया। इसका कारण सामाजिक बहिष्कार बताया जा रहा है। बताया गया है कि वृद्धा के बेटे पर एक नजदीकी रिश्तेदार की हत्या का आरोप है। इसी के चलते गांव ने इस परिवार का सामाजिक स्तर पर बहिष्कार कर रखा है। ये था पूरा मामला...


- हुलासीबाई पत्नी पन्नालाल प्रजापत शाम सात बजे बाड़े से भैंस लेकर घर लौट रही थी। रास्ते में गांव का गंगाराम पुत्र रतनलाल भील उस पर तेजाब फेंक कर फरार हो गया।

- हमले से सकते में आई हुलासी किसी तरह हिम्मत करके घर पहुंची। छोटी बेटी कंचन ने गांव वालों को आवाज लगाई, लेकिन हुलासी का परिवार बहिष्कृत होने के कारण गांव का कोई व्यक्ति इनकी मदद करने आगे नहीं आया।

- सूचना मिलने के करीब दो घंटे बाद दूसरे गांव से महिला का दामाद पहुंचा।

- उसने एंबुलेंस के लिए 108 पर सूचना दी, लेकिन डेढ़ घंटा इंतजार के बाद भी एंबुलेंस नहीं आई तब अरनोदा से निजी वाहन मंगवाकर अस्पताल पहुंचाया।

इसलिए बहिष्कार...

- हुलासी के बेटे पर किसी रिश्तेदार की हत्या का आरोप होने के करण ग्रामीणों ने उसके परिवार का चरलिया गांव में सामाजिक बहिष्कार कर रखा है।

- जानकारी के अनुसार उसके बेटे भैरूलाल ने 9 जुलाई, 2017 की रात में पड़ोसी रिश्तेदार के कक्षा 11वीं में अध्ययनरत 17 वर्षीय छात्र किशनलाल उर्फ प्रकाश पुत्र चुन्नीलाल प्रजापत की धारदार हथियार से हत्या कर दी थी। इस दौरान किशनलाल सोया हुआ था।

- पुलिस ने दूसरे दिन ही भैरूलाल को गिरफ्तार कर लिया था, जो अभी जेल में है। तब से गांव वालों ने इस परिवार से बोलचाल बंद कर रखा है। ऐसे में वृद्धा हुलासी अपनी छोटी बेटी कंचन के साथ गांव में अकेले रह रही हैं।


दामाद का शक...

- हुलासी के दामाद जगदीश ने आशंका जताई है कि गंगाराम ने किसी के बहकावे में आकर एसिड फेंका है। असल में इस घटना के पीछे मुख्य कारण पड़ोसी के बेटे की हत्या का बदला लेना है।

- जगदीश के अनुसार वह कल अपने काका की मौत होने से केली गया हुआ था। जहां से किसी कार्य से निंबाहेड़ा पहुंचा।

- इसी बीच उपसरपंच झाला का फोन आने पर घटना की जानकारी मिली। हुलासीबाई का उदयपुर में उपचार चल रहा है। पुलिस में इस घटना की रिपोर्ट भी जगदीश ने ही दी है।

पुलिस ने खेतों में भागते हुए पकड़ा आरोपी को

- बेटी कंचन उपसरपंच कैलाशसिंह झाला के पास पहुंची। झाला ने रात करीब साढ़े आठ बजे हुलासी के दामाद मेवासा निवासी जगदीश को जानकारी दी। जगदीश रात नौ बजे चरलिया पहुंचा।

- हालात देखकर उसने एंबुलेंस को सूचना दी। लगभग डेढ़ घंटे इंतजार करने के बाद भी एंबुलेंस नहीं आई तो अरनोदा से एक निजी वाहन को बुलाकर हुलासी को देर रात निंबाहेड़ा के उप जिला अस्पताल में लेकर पहुंचा।

- इधर, सूचना पर सदर थाना से एएसआई राजाराम मीणा पहले चरलिया और फिर अस्पताल पहुंचे और घटना की जानकारी ली।

- पुलिस ने रविवार सुबह वापस चरलिया पहुंचकर आरोपी के बारे में पूछताछ कर उसकी तलाश शुरू की। पुलिस के आने की भनक लगते ही आरोपी गंगाराम खेतों में भागने लगा।

- उसे घेराबंदी कर दबोचा व थाने लेकर आए। पुलिस के अनुसार प्रारंभिक पूछताछ में गंगाराम ने शराब के नशे में किसी के बहकावे में आकर तेजाब डालने की बात कही है।

यह सही है कि पिछले साल हुई हत्या के बाद ग्रामीणों ने हुलासी के परिवार को सामाजिक कार्यों में बुलाना बंद कर दिया। तथापि पानी भरने, किराणा या अन्य दुकानों से खरीदारी पर रोकटोक नहीं । हुलासीबाई पर तेजाब डालने की घटना के बाद पुलिस को सूचना देने सहित अस्पताल पहुंचाने में भी हमने मदद की है। कैलाशसिंह झाला, उपसरपंच, ग्राम पंचायत अरनोदा

आरोपी गंगाराम आरोपी गंगाराम
X
80 वर्षीय महिला80 वर्षीय महिला
आरोपी गंगारामआरोपी गंगाराम
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..