--Advertisement--

Analysis: मोदी ने जहां ‘नीच’ का मुद्दा उठाया, वहां BJP ने 16 में से 15 सीटें जीतीं

9 में से कांग्रेस को 05 , भाजपा को 2 सीट मिलीं। 2012 में भाजपा के पास इन तीन जिलों की छह विधानसभा सीटें थीं।

Dainik Bhaskar

Dec 19, 2017, 05:24 AM IST
मोदी ने सूरत में कहा था- श्रीमा मोदी ने सूरत में कहा था- श्रीमा

अहमदाबाद. मणिशंकर अय्यर ने मोदी को नीच इंसान कहा तो उन्होंने सूरत की सभा में इसे चुनाव का मुद्दा बना लिया। पीएम ने इसे गुजरात की अस्मिता से जोड़ दिया। यहां जीएसटी से कारोबारी नाराज थे और बीजेपी को सीटें कम होने का डर था, लेकिन बीजेपी यहां कांग्रेस के दिए मुद्दे से हवा का रुख बदलने में कामयाब रही। यहां की 16 में से 15 सीटें उसके खाते में आईं। सिर्फ एक सीट कांग्रेस को मिली।

सूरत में क्या कहा मोदी ने?

- मोदी ने कहा, "श्रीमान मणिशंकर अय्यर ने आज कहा कि मोदी नीच जाति का है। यह गुजरात का अपमान है। यह उनकी मुगल मानसिकता है, जहां कोई आदमी अच्छे कपड़े पहनता है तो उन्हें दिक्कत होती है।"

क्यों बनाया मुद्दा?

- सूरत कपड़ा कारोबारियाों का इलाका है। यहां 16 सीटें हैं। जीएसटी और नोटबंदी से व्यापारी नाराज थे। ऐसे में, खुद पर किए गए कमेंट को गुजरात की अस्मिता से जोड़ दिया।

नतीजा क्या हुआ?

- 16 में 15 बीजेपी को और कांग्रेस 1 सीट मिली सूरत में। 2012 के चुनाव में बीजेपी को 16, जबकि कांग्रेस को एक भी सीट नहीं मिली थी।

राहुल ने पोरबंदर में कहा- यह सूट-बूट वाली सरकार

- राहुल ने पोरबंदर में कहा, "नोटबंदी के दौरान जब लोग लाइन में लगे थे, तो किसी सूट-बूट वाले को वहां नहीं देखा गया, क्योंकि वो पीछे से घुस गए थे और एसी में बैठे थे। ये सूट-बूट वालों की सरकार है।"

दावे और असर

क्यों बनाया मुद्दा?

- तटीय इलाका है। नोटबंदी से मछुआरों को नुकसान पहुंचा। पोरबंदर जिले में दो सीटें हैं। जबकि इससे सटे द्वारका और जूनागढ़ जिले में कुल सात विधानसभा सीटें हैं।

नतीजा क्या हुआ?

- 9 में से कांग्रेस को 5 और बीजेपी को 2 सीट मिली। 2012 में बीजेपी के पास इन तीन जिलों की छह विधानसभा सीटें थीं।

मोरबी में मोदी ने इंदिरा के बदबू से परेशान होने का मुद्दा बनाया

मोदी बोले, "यहां बाढ़ के दौरान मारे गए लोगों को देखने इंदिरा मोरबी में आई थीं, तो शवों की बदबू से परेशान होकर उन्होंने मुंह पर रूमाल रख लिया था।"

नतीजा क्या हुआ?

मोरबी जिले में 3 में से एक सीट भाजपा को मिली। कांग्रेस ने दो सीट छीन ली। मोरबी-टंकारा सीट 22 साल बाद जीती।

सोमनाथ में राहुल ने खुद को शिवभक्त बताया

यहां राहुल गांधी ने सोमनाथ मंदिर में दर्शन किए। उनका नाम मंदिर के रजिस्टर में गैर हिंदू दर्ज हुआ। इसे भाजपा ने मुद्दा बनाया। राहुल ने खुद को शिवभक्त बताया।

नतीजा क्या हुआ?

सोमनाथ जिले की चारों सीटें कांग्रेस ने जीत ली। 2012 में भाजपा को यहां तीन और कांग्रेस को एक सीट मिली थी।

ये भी पढ़ें:

X
मोदी ने सूरत में कहा था- श्रीमामोदी ने सूरत में कहा था- श्रीमा
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..