--Advertisement--

अहमदाबाद में 49 बसों के कांच तोड़े, गांधीधाम में तहसीलदार की जीप पर पथराव

दलित संगठनों के भारत बंद के दौरान प्रदेशभर में व्यापक प्रदर्शन, लेकिन कोई हताहत नहीं हुआ

Danik Bhaskar | Apr 03, 2018, 02:41 AM IST

अहमदाबाद/वडोदरा/सूरत/राजकोट. अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम के प्रावधानों में फेरबदल करने वाले सुप्रीम कोर्ट के हाल के फैसले के विरोध में दलित संगठनों की ओर से आयोजित एक दिवसीय भारत बंद के दौरान व्यापक प्रदर्शन हुए। इस दौरान कई स्थानों पर रेल-सड़क जाम, पथराव तथा दुकानों और शिक्षण संस्थानों को जबरन बंद कराने की घटनाएं भी हुईं। बंद समर्थकों ने कच्छ जिले के गांधीधाम शहर में मामलतदार के वाहन पर पथराव किए। भीड़ ने जूनागढ़, राजकोट, राजुला, चोटिला तथा कुछ अन्य स्थानों पर दुकानों में तोड़फोड़ की।


बोटाद जिले के सारंगपुर, सुरेन्द्रनगर के वढवाण तथा अहमदाबाद के गिरधारीनगर समेत कई अन्य स्थानों पर बंद समर्थकों ने जबरन रेलगाडिय़ों को भी रोक दिया। प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच कई स्थानों पर झड़प भी हुई। पुलिस ने राजकोट के सिविल हॉस्पिटल के निकट वैन पर पथराव करने पर 10 लोगों को हिरासत में लिया। अहमदाबाद शहर के दलित बहुल सारंगपुर इलाके में अपने हाथ की नस काट कर आंबेडकर की प्रतिमा पर नारे लिखने का प्रयास करने वाले एक युवक को अस्पताल में भर्ती कराया गया। बंद समर्थकों ने कई स्थानों पर सड़क जाम भी किया।

प्रदर्शन के चलते उत्तर गुजरात समेत कई अन्य स्थानों पर राज्य परिवहन निगम की एसटी बसों को बदले हुए मार्ग से चलाया गया। प्रदर्शनकारियों ने अहमदाबाद समेत अन्य शहरों में 20 से अधिक नगर सेवा की बसों और अन्य पर भी पथराव किया अथवा इन्हे क्षतिग्रस्त करने का प्रयास किया। हालांकि इस दौरान कोई यात्री घायल नहीं हुआ। अहमदाबाद में नगर बस सेवा को कई मार्गों पर बंद करना पड़ा।

अदालत और सिनेमाघर को जबरन बंद कराया

अहमदाबाद में एक स्थानीय अदालत के प्रवेश को भी एहतियात के तौर पर बंद कर दिया गया था। बंद समर्थकों ने बारडोली में सिनेमा घरों को भी बंद करा दिया। उधर पुलिस ने बड़ी संख्या में बंद समर्थकों को हिरासत में भी लिया है। बंद समर्थकों ने पाटन, हिम्मतनगर, थराद, नवसारी, भरूच, जूनागढ़, धानेरा, भावनगर, जामनगर, गाेंडल, अमरेली, तापी और साणंद तथा अन्य स्थानों पर रैलियां भी निकाली।

एनएसयूआई ने किया बंद का समर्थन
वाम दलों तथा अन्य विपक्षी दलों के साथ इस बंद को समर्थन देने वाली एनएसयूआई ने अहमदाबाद शहर तथा कुछ अन्य स्थानों पर कॉलेजों को बंद करा दिया। वडोदरा में सफाईकर्मियों ने कचरा सड़क पर खाली कर दिया।