--Advertisement--

गुजरात शर्मसार: पहली बार विधानसभा में मारपीट पर उतरे विधायक

सत्र से पहले सार्जेंटों ने कहा था बवाल होगा, इस हद तक हो जाएगा इसका अंदाजा नहीं : अध्यक्ष

Danik Bhaskar | Mar 15, 2018, 03:02 AM IST
विधानसभा में बुधवार को कांग्रेस के विधायकों को न बोलने देने के मुद्दे पर विवाद शुरू हुआ। आरोप-प्रत्यारोप के बीच कांग्रेस के विधायक प्रताप दूधात ने माइक खींचकर भाजपा विधायक जगदीश पंचाल पर हमला कर दिए। इस घटना से विधानसभा का माहौल गरमा गया। पक्ष-विपक्ष के विधायकों ने बीच-बचाव करते हुए दोनों को एक-दूसरे से अलग किया। विधानसभा में बुधवार को कांग्रेस के विधायकों को न बोलने देने के मुद्दे पर विवाद शुरू हुआ। आरोप-प्रत्यारोप के बीच कांग्रेस के विधायक प्रताप दूधात ने माइक खींचकर भाजपा विधायक जगदीश पंचाल पर हमला कर दिए। इस घटना से विधानसभा का माहौल गरमा गया। पक्ष-विपक्ष के विधायकों ने बीच-बचाव करते हुए दोनों को एक-दूसरे से अलग किया।

गांधीनगर. विधानसभा में घटी घटना की रूलिंग देने से पहले अध्यक्ष राजेन्द्र त्रिवेदी ने पूरी घटना का गंभीरता से अवलोकन पेश किया। त्रिवेदी ने कहा कि विधानसभा शुरू होने के कुछ मिनट पहले ही सार्जन्ट मेरे पास आकर कहा था कि आज प्रश्नकाल में कुछ विधायक बवाल करने वाले हैं। परंतु बवाल इस हद तक होगा इसका मुझे ख्याल नहीं था। पहले प्रश्न पर 21 मिनट चर्चा हुई और विपक्ष को सबसे ज्यादा सवाल पूछने दिया गया। कांग्रेस के विक्रम माडम बोलना चाहा, तो उन्हें रोक दिया गया। इसके बाद दोनों दलों के विधायक आमने-सामने हो गए और उनके बीच विवाद होने लगा। आज जो घटना घटी है वह तीन विधायकों की सोची-समझी साजिश हो एेसा प्रतीत होता है।

त्रिवेदी ने कहा कि इन विधायकों की भाषा ठीक नहीं थी। गली-मोहल्ले जैसा बर्ताव था। इस घटना में यह तर्क नहीं उठाया गया कि जगदीश पांचाल को ही क्यों मारा गया। क्याेंकि दूसरे किसी को मारने पर यह तथ्य उभरकर सामने आता। माइक फिक्स है। कोई उखाड़ नहीं सकता है पर जिनकी प्रवृत्ति आपराधिक होती है उन्हें पहले से पता होता है कि माइक उखाड़ने के लिए ताकत चाहिए। दुधात दौड़कर माइक उखाड़ लिए। दुधात को मंगलवार को भी सस्पेंड किया गया था। बलदेवजी को 99 बार रोका था। गुंडों जैसा बर्ताव विधायकों ने किया। विधानसभा में बुधवार को कांग्रेस के विधायकों को न बोलने देने के मुद्दे पर विवाद शुरू हुआ। आरोप-प्रत्यारोपके बीच कांग्रेस के दूधात ने माइक से हमला कर दिया।

सिर शर्म से झुक जाता है : नितिन पटेल

उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने कहा कि गुजरात विधानसभा के इतिहास का सबसे कलंकित दिन है। सिर शर्म से झुक जाता है। प्रताप दुधात के पास कोई कारण नहीं था, वे चित्र में कहीं भी नहीं थे पर क्रोधित होकर माइक उखाड़ते हुए जगदीश पंचाल पर हमला कर दिए। सत्र शुरू हुआ तब से एक भी दिन ऐसा नहीं रहा जब वे नाराज न हुए हों। मैं कांग्रेस की आलोचना नहीं कर रहा हूं। पर दो-तीन विधायक माहौल बिगाड़ने और विधानसभा को कलंकित करने का प्रयास किया है।

दोनों को एक समान सजा होनी चाहिए : परमार
कांग्रेस के उपनेता शैलेष परमार ने कहा कि दुघात अगर दोषी हैं तो भाजपा विधायक जगदीश पंचाल ने उन्हें भड़काने का काम किया है। पंचाल के गाली-गलौज करते ही मामला बिगड़ गया। लोकत्रंत की लंबी-लंबी बातें की जाती है पर इस घटना में केवल विपक्ष ही जिम्मेदार नहीं है। शैलेष परमार ने कहा कि भाजपा के दोनों विधायकों को भी एक समान सजा होनी चाहिए।

गाली-गलौज करने वाले पंचाल को माफ नहीं कियाजा सकता : धानाणी
प्रतिपक्ष के नेता परेश धानाणी ने कहा कि आज की घटना काफी गंभीर है, इसमें विधायकों की जिम्मेदारी तय होनी चाहिए। पर पिछले एक हफ्ते से कांग्रेस के विधायक शिकायत कर रहे थे कि जगदीश पंचाल, हर्ष संघवी और अन्य विधायक असंसदीय भाषा का उपयोग करके विधायकों को भड़का रहे थे और सस्पेंड कराने का प्रयास कर रहे थे। इस घटना में भाजपा के विधायक भी आक्रमण करने के मूड में थे। दुधात जगदीश पंचाल पर ही क्यों क्रोधित थे? धमकी की भाषा में बात करने, मां-बहन, बेटी को संबोधित करके गाली-गलौज करने की जगदीश पंचाल की प्रवृत्ति को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। अमरीश डेर को भी पीटे जो उचित नही है।

अध्यक्ष के बोलने का मौका न देने की कांग्रेस के विधायक विक्रम माडम प्रतिपक्ष के उपनेता से शिकायत कर रहे थे। इसी दौरान अमरीश डेर के क्रोधित होने पर सार्जेन्ट उन्हें घसीटकर विधानसभा से बाहर ले गए। अध्यक्ष के बोलने का मौका न देने की कांग्रेस के विधायक विक्रम माडम प्रतिपक्ष के उपनेता से शिकायत कर रहे थे। इसी दौरान अमरीश डेर के क्रोधित होने पर सार्जेन्ट उन्हें घसीटकर विधानसभा से बाहर ले गए।
अध्यक्ष के बोलने का मौका न देने की कांग्रेस के विधायक विक्रम माडम प्रतिपक्ष के उपनेता से शिकायत कर रहे थे। इसी दौरान अमरीश डेर के क्रोधित होने पर सार्जेन्ट उन्हें घसीटकर विधानसभा से बाहर ले गए। अध्यक्ष के बोलने का मौका न देने की कांग्रेस के विधायक विक्रम माडम प्रतिपक्ष के उपनेता से शिकायत कर रहे थे। इसी दौरान अमरीश डेर के क्रोधित होने पर सार्जेन्ट उन्हें घसीटकर विधानसभा से बाहर ले गए।