--Advertisement--

लंदन में फेमस है ये 'महिला पंडित', कराती हैं शादी, कथा और अंतिम क्रिया जैसे काम

7 साल में वे यूके, अमेरिका, इटली, ग्रीस और कनाडा में 800 से ज्यादा गुजराती और विदेशी कपल की शादी करा चुकी हैं।

Danik Bhaskar | Feb 20, 2018, 05:39 AM IST
चंदा ने विदेश् में भी महिला पुजारी के रूप में सबसे ज्यादा हिन्दू रीति-रिवाज से शादियां कराई हैं। चंदा ने विदेश् में भी महिला पुजारी के रूप में सबसे ज्यादा हिन्दू रीति-रिवाज से शादियां कराई हैं।

वडोदरा. राइटर, ट्रक या रिक्शा ड्राइवर के तौर में महिलाओं को हर किसी ने देखा है, लेकिन धार्मिक कर्मकांड कराने वाली महिला के तौर पर शायद ही किसी महिला को देखा गया हो। 64 साल की चंदाबेन दरअसल राजकोट की रहने वाली हैं। हालांकि, शादी के बाद पति के साथ लंदन सेटल हो गईं। वे अब यूके में पहली कर्मकांडी के तौर पर जानी जाती हैं। पिछले 7 साल में वे यूके, अमेरिका, इटली, ग्रीस और कनाडा में 800 से ज्यादा गुजराती और विदेशी कपल की शादी करा चुकी हैं। शादी के अलावा जनेऊ, अंतिम क्रिया, नामकरण सहित कर्मकांड की सभी विधियां चंदाबेन कराती हैं।

पिता से मिली है विरासत

चंदाबेन व्यास ने बताया कि मेरे पिता पुजारी के रूप में सारे कर्मकांड कराते थे। मैं छोटी थी तो उनके साथ जनेऊ, भूमिपूजन, सत्यनारायण की कथा, शादी समेत पूजा वगैरह में जाती थी। पिता के साथ इन विधियों में जाने के कारण मुझे इन सबकी अच्छी जानकारी हो गई। चंदाबेन ने अपनी दो बेटियों की शादी खुद ही हिन्दू रीति-रिवाज से कराई है। पिछले सात साल में वे 800 शादियों के अलावा अंतिम क्रिया, जनेऊ, सत्यनारायण की कथा, भूमिपूजन, नामकरण समेत और कई तरह के कर्मकांड करा चुकी हैं।

ऐसे की थी इस काम की शुरुआत

चंदाबेन की 3 बेटियां हैं, जिनके पढ़ाई-लिखाई और शादी में आधी उम्र बीत गई। हालांकि, उन दिनों भी चंदाबेन समय निकालकर पूजा आदि विधियों में शामिल होती रही। इस बीच उन्हें ऐसा लगा कि आज के समय में हिन्दू धार्मिक रीति-रिवाज से शादी करानी हो तो उन्हें पुजारी बनना होगा। इसके बाद उन्होंने विदेशों में रहने वाले गुजराती परिवारों में शादी करानी शुरू की।

श्लोक का अनुवाद करके उसका अर्थ भी समझाती हैं चंदा

चंदाबेन व्यास का कहना है कि महिला पुजारी के रूप में मैंने सबसे ज्यादा हिन्दू रीति-रिवाज से शादी कराई है। विदेश में गैर हिन्दू भी हिन्दू रीति-रिवाज से शादी करने में दिलचस्पी लेते हैं। गैर हिन्दू कपल की शादी मैं संस्कृत के श्लोकों का अंग्रेजी में अनुवाद करती हूं और हर श्लोक का अर्थ उन्हें समझाती हूं। विदेशी हिन्दू रीति-रिवाज से शादी करके काफी खुश होते हैं।

गैर हिन्दू कपल की शादी मैं संस्कृत के श्लोकों का अंग्रेजी में अनुवाद करती हूं और हर श्लोक का अर्थ उन्हें समझाती हूं। गैर हिन्दू कपल की शादी मैं संस्कृत के श्लोकों का अंग्रेजी में अनुवाद करती हूं और हर श्लोक का अर्थ उन्हें समझाती हूं।
चंदाबेन अब यूके में पहली कर्मकांडी के तौर पर जानी जाती हैं। चंदाबेन अब यूके में पहली कर्मकांडी के तौर पर जानी जाती हैं।