सूरत

--Advertisement--

बीच बाजार गैंगरेप के आरोपी की हत्या, देखने वालों ने शिकायत तक नहीं दी

6 बदमाशों ने कई लोगों के सामने गुप्ती से 20 वार कर ले ली जान।

Danik Bhaskar

Dec 20, 2017, 07:17 AM IST
सिम्बॉलिक इमेज। सिम्बॉलिक इमेज।

सूरत. पांडेसरा में सोमवार को दिल दहला देने वाली ऐसी वारदात हुई, जिससे शहर में सुरक्षा व्यवस्था की पोल खुल गई। भरे बाजार में दर्जनों लोगाें के सामने गैंगरेप के एक आरोपी की हत्या कर दी गई। सबके सामने आरोपियों ने युवक पर गुप्ती से 20 वार किए, जब वह गिर गया तो उसे छोड़कर भाग गए। तब जाकर लोगों ने पुलिस को सूचना दी। इतना ही नहीं, युवक को अस्पताल भी पुलिस लेकर गई। लोगों ने हत्या की शिकायत तक दर्ज नहीं करवाई। पुलिस ने अपने स्तर पर मामला दर्ज किया है।


- वारदात पांडेसरा में दक्षेश्वर नगर नागसी नगर के पास हुई। मामला गैंगवार का बताया जा रहा है। हमलावरों ने पहले कुछ देर युवक से बात की, फिर उस पर ताबड़तोड़ हमला कर दिया। भीड़ तमाशबीन बनकर देखती रही, लेकिन कोई बचाने नहीं आया।

- हमलावरों के भागने के बाद किसी ने पुलिस को सूचना दी। पुलिस वहां पहुंची, तब जाकर युवक को अस्पताल ले गई। लेकिन, उसे बचाया नहीं जा सका। मंगलवार को युवक की मौत हो गई। हालांकि, मामले में पुलिस ने आरोपियों को पकड़ लिया है। लेकिन, पुलिस अभी कुछ भी बताने से मना कर रही है। मृतक पर आठ साल पहले रेप का आरोप है।
- दक्षेश्वर के पास रहने वाले उड़ीसा के मूल निवासी बलराम देवराज जैना सोमवार शाम को नागसी नगर के पास ममता मंडप के सामने से निकल रहा था। तभी छह जनों ने उसे रास्ते में रोक लिया। रोकने वालों ने बलराम के साथ - कुछ देर बाते की। उसके बाद वे अापस में झगड़ने लगे। कुछ ही देर में उन्होंने गुप्ती से बलराम की छाती, पेट और पीठ पर हमला कर दिया। इससे बलराम वहीं गिर गया।

- हमलावरों के वहां से भाग जाने के बाद किसी ने पुलिस को सूचना दी। पुलिस तत्काल मौके पर पहुंच गई। आसपास के लोगों ने हमला देखा, लेकिन कोई फरियाद करने के लिए सामने नहीं आया।

अंकित के पिता को चांटा मारा था बलराम ने

- बलराम जहां रहता था, वहा पुलिस ने जांच की तो कोई परिवार का सदस्य नहीं मिला। पुलिस ने बलराम को गंभीर अवस्था में सिविल अस्पताल में भर्ती कराया। पुलिस ने सरकार की ओर से शिकायत दर्ज की।

- पुलिस को पता चला कि एक हमलावर का नाम अंकित है। इसी बीच इलाज के दौरान बलराम की मंगलवार को मौत हो गई। दो दिन पहले बलराम ने अंकित के पिता को चांटा मारा था।

- इसका बदला लेने के लिए उसने बलराम की हत्या कर दी। इससे पहले भी अंकित और बलराम के बीच अक्सर झगड़ा होता रहता था।

3 साल पहले ही छूटा था बलराम
8 साल पुराने रेप के एक मामले में मृतक बलराम आरोपी था। 2012 में पांडेसरा में सामूहिक रेप की शिकायत दर्ज हुई थी। जिसमें 10 आरोपी थे। इनमें बलराम भी था। इस मामले में ढाई साल तक वह जेल में रहा था। तीन साल पहले ही वह जेल से छूटा था।

Click to listen..