--Advertisement--

गुजरात में 1815 में से क्रिमिनल रिकॉर्ड वाले 253 कैंडिडेट, 3 पर दर्ज है मर्डर केस

कांग्रेस के 56 और भाजपा के46 कैंडिडेट के खिलाफ दर्ज हैं क्रिमिनल मामले।

Danik Bhaskar | Dec 13, 2017, 06:32 AM IST

अहमदाबाद. चुनावी जंग में राजनीतिक दलों की ओर से विकास, राष्ट्रवाद और जनकल्याण के वादे इस सच्चाई के बीच फीके पड़ते नजर आ रहे हैं। सभी दलों ने ऐसे कई उम्मीदवार मैदान में उतारे हैं जिन पर हत्या, हत्या के प्रयास या कई अन्य तरह के आपराधिक मामले दर्ज हैं। दोनों चरणों के 1815 उम्मीदवारों में से 14 प्रतिशत यानी कि 253 उम्मीदवारों ने अपने हलफनामे में कहा है कि उनके खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज हैं। एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफार्म और गुजरात इलेक्शन वॉच की ओर से उम्मीदवारों द्वारा दाखिल शपथ पत्र की स्वतंत्र जांच में यह हकीकत सामने आई है।

- तीन ऐसे उम्मीदवार हैं जिन पर भारतीय दंड संहिता की धारा 302 के तहत हत्या का मामला दर्ज है जबकि 17 पर आईपीसी की धारा 307 के तहत हत्या के प्रयास का आरोप लगा है।

- चार उम्मीदवारों के खिलाफ दुष्कर्म और सात पर अपहरण के आरोप दर्ज हैं। दो प्रमुख दलों कांग्रेस और भाजपा के क्रमश: 56 और 46 उम्मीदवार ऐसे हैं जिनके खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज हैं।

- हत्या के आरोपों में घिरे उम्मीदवारों में नवगठित भारतीय ट्राइबल पार्टी के उम्मीदवार महेशभाई छोटूभाई वसावा, भाजपा के महेशभाई सोमजीभाई भूरिया और कांग्रेस के भावेशभाई कटारा प्रमुख हैं। कटारा झालोद से चुनाव लड़ रहे हैं। कटारा और भाजपा के भूरिया दोनों के ही खिलाफ हत्या के एक -एक मामले दर्ज हैं।

2012 में आपराधिक रिकार्ड वाले 222 उम्मीदवार थे

वर्ष 2012 के विधानसभा चुनाव में ऐसे उम्मीदवारों की संख्या 222 थी। हालांकि कुल उम्मीदवारों की तुलना में इनका प्रतिशत 17 फीसदी था। इस बार के चुनाव में केवल राजनीतिक दलों के ही नहीं बल्कि कई निर्दलीय उम्मीदवार भी ऐसे हैं जिनके खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज हैं। ऐसे निर्दलीय उम्मीदवारों की कुल संख्या 791 है। राज्य की 182 सीटों में से 35 सीटें ऐसी हैं जिनमें तीन या उससे अधिक उम्मीदवारों के खिलाफ अापराधिक मामले चल रहे हैं।