--Advertisement--

बेटी ने डॉल के कपड़े प्रेस करने की जिद, पिता ने बना दी दुनिया का सबसे छोटा प्रेस

सूरत के पवन शर्मा से मिलिए, जिन्होंने अपनी बेटी की एक मामूली जिद को पूरा करने के लिए विश्व का सबसे छोटा प्रेस बना दिया।

Danik Bhaskar | Mar 12, 2018, 05:47 AM IST

सूरत. हुनर और जज्बे की मिसाल देखनी हो तो सूरत के पवन शर्मा से मिलिए, जिन्होंने अपनी बेटी की एक मामूली जिद को पूरा करने के लिए विश्व का सबसे छोटा प्रेस बना दिया। इसके बाद उन्होंने विश्व का सबसे छोट हीटर बनाया, जिसके के लिए उनका नाम लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड मेें भी दर्ज हो चुका है। बेटी की जिद, अपनी डॉल के कपड़े प्रेस करने...

- शर्मा ने बताया कि एक बार उनकी पत्नी कपड़ा प्रेस कर रही थीं तभी उनकी बेटी अपनी डॉल के कपड़े प्रेस करने की जिद पर अड़ गई। बेटी की जिद देख मां ने कहा, “बेटा तुम्हारी डॉल के ड्रेस काफी छोटे हैं इसके लिए बहुत छोटा प्रेस चाहिए जो नहीं है’। यह देख उनके दिमाग में एक बात आई क्यों न वह इतना छोटा प्रेस बनाएं, ताकि उनकी बेटी अपनी डॉल के कपड़े प्रेस कर सके। इसके बाद उन्होंने एक सप्ताह में ही नाखून की साइज का प्रेस बना दिया।

12 वोल्ट डीसी इलेक्ट्रिक करंट से चलता है प्रेस....

- इस प्रेस को बनाने में एक हफ्ते लगे थे। इसके लिए पवन ने पहले मार्केट से समान लाने की कोशिश की, लेकिन इतनी छोटी वस्तुएं नहीं मिल पाईं।

- इसके बाद घर पर वेस्टेज समान में ही प्रेस बनाने के सामान के सामान की तलाश शुरू की।

- इस प्रेस में एल्युमिनियम, ब्रास नट, प्लास्टिक हैंडल, एसबेस्टस, टंगस्टन वायर, स्टील स्टैंड, मोबाइल चार्जर, पिन इत्यादि इस्तेमाल कर 17 मिमी ऊंची, 9 मिमी चौड़ी और 2.5 मिमी मोटा प्रेस बना दिया। यह प्रेस 12 वोल्ट डीसी इलेक्ट्रिक करंट से चलता है।

सबसे छोटी केतली, हुक्का और जूता भी बना चुके हैं
- प्रेस बनाने के बाद सूरत के परवत पाटिया के रहने वाले पवन शर्मा ने पेंसिल की नोक पर 130 तरह की डिजाइन बना चुके हैं।

- वहीं मोम के कलर पर महात्मा गांधी और पीएम मोदी की भी मूर्ति बना चुके हैं। साथ ही चाय की केतली, हुक्का, जूता और पैर जैसे सैकड़ों चीजें बना चुके हैं और यह सभी दुनिया की सबसे छोटी हैं।

- अब उन्हें ऐसी कलाकृति और डिजाइन बनाने में महारत हासिल हो चुकी है।

पवन के नाम दर्ज है रिकॉर्ड

- पवन शर्मा ने बताया कि सबसे छोटा प्रेस बनाने के बाद उन्होंने सबसे छोटा हीटर बना दिया। इसके लिए उन्हें एशिया और लिमका बुक ऑफ रिकॉर्ड में नाम दर्ज किया गया। हाल ही में पवन ने बाल में छेद करके उसमें दूसरा बाल डालने का काम किया है।

12 वोल्ट डीसी इलेक्ट्रिक करंट से चलता है प्रेस

- इस प्रेस को बनाने में एक हफ्ते लगे थे। इसके लिए पवन ने पहले मार्केट से समान लाने की कोशिश की, लेकिन इतनी छोटी वस्तुएं नहीं मिल पाईं। इसके बाद घर पर वेस्टेज समान में ही प्रेस बनाने के सामान के सामान की तलाश शुरू की।

- इस प्रेस में एल्युमिनियम, ब्रास नट, प्लास्टिक हैंडल, एसबेस्टस, टंगस्टन वायर, स्टील स्टैंड, मोबाइल चार्जर, पिन इत्यादि इस्तेमाल कर 17 मिमी ऊंची, 9 मिमी चौड़ी और 2.5 मिमी मोटा प्रेस बना दिया। यह प्रेस 12 वोल्ट डीसी इलेक्ट्रिक करंट से चलता है।