--Advertisement--

Inside Story: शाह का फाेन आने के बाद नितिन पटेल ने संभाला चार्ज, घी फिर से घी के डिब्बे में मिल गया: रूपाणी

नितिन पटेल के मामले से विरोधियों के मुंह में आ गया था पानी: रूपाणी

Dainik Bhaskar

Jan 01, 2018, 05:59 AM IST
नितिन पटेल ने विधिवत पूजा-पाठ कर पदभार संभाल लिया। नितिन पटेल ने विधिवत पूजा-पाठ कर पदभार संभाल लिया।

अहमदाबाद. पसंद का मंत्रालय नहीं मिलने से नाराज गुजरात के डिप्टी सीएम नितिन पटेल रविवार को वित्त मंत्रालय मिलने से मान गए। अब स्टोरी में एक नया खुलासा हुआ है। कहा जा रहा है कि नितिन पटेल को मनाने के लिए अमित शाह को पहल करनी पड़ी। उन्होंने फोन पर डिप्टी सीएम को अहम मंत्रालय देने का आश्वसन दिया था। इससे पहले नाराज नितिन ने रोड, बिल्डिंग और हेल्थ डिपार्टमेंट का चार्ज नहीं लिया था। इसके बाद हार्दिक पटेल ने उन्हें अपने साथ आने का न्योता दिया था। हार्दिक ने कहा था, अगर बीजेपी में नितिन पटेल का सम्मान नहीं हो रहा है तो वह कांग्रेस ज्वाइन कर सकते हैं। हार्दिक ने कहा था कि वह डिप्टी सीएम नितिन पटेल से मिलने भी जाएंगे।

डिप्टी सीएम नितिन पटेल ने कहा- कांग्रेस में जाने की कल्पना भी नहीं कर सकता

- रविवार को वित्त मंत्रालय का कार्यभार संभालने के बाद नितिन पटेल ने कहा- "कांग्रेस ने बीजेपी के इस अंदरूनी मामले को सत्ता हासिल करने के एक मौके के तौर पर देखा था। उसे शायद पता नहीं था कि नितिन पटेल बीजेपी का एक कट्टर कार्यकर्ता है और वह कांग्रेस में जाने की कल्पना तक नहीं कर सकता।"

कैसे माने नितिन पटेल?

- नाराज नितिन पटेल का कहना था- "बस इतना चाह रहा था कि जिन मंत्रालयों को पहले मैं संभाल रहा था, वो मुझे दोबारा दे दिए जाएं। मैंने 40 साल से बीजेपी कार्यकर्ता के रूप में काम किया है। मैं हमेशा से पार्टी के साथ खड़ा रहा हूं। यह सभी जानते हैं। मेरा योगदान देखकर ही पार्टी ने मुझे उप मुख्यमंत्री बनाया।"

- उनकी इस नाराजगी पर राज्य का कोई भी नेता बयान नहीं दे रहा था। खुद सीएम विजय रूपाणी मीडिया के सवालों का जवाब देने से बचते दिखे।

- इसके बाद, इस हाई वोल्टेज ड्रामा में आलाकमान को कूदना पड़ा। अमित शाह ने फोन कर नितिन को अहम मंत्रालय देने का वादा किया। बाद में नितिन पटेल ने कहा, ‘भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने मुझ पर भरोसा जताया है, इसलिए मैं पदभार संभाल रहा हूं। कैबिनेट की मीटिंग हुई थी। मैंने सीएम के साथ इसमें हिस्सा लिया और अनुशासन बनाए रखा। मैंने आलाकमान से कहा था कि अगर मुझे महत्वपूर्ण मंत्रालय नहीं दिए गए तो एक मंत्री की जिम्मेदारी से मुझे मुक्त कर दिया जाए। मेरी इच्छा सत्ता या महत्वपूर्ण मंत्रालय लेने की नहीं थी।

क्यों नाराज थे नितिन पटेल?
- बीजेपी ने जिन विधायकों को मंत्री बनाया है, वो सभी शुक्रवार को ही चार्ज ले चुके हैं। लेकिन नितिन पटेल ने ऐसा नहीं किया। इसके बाद मीडिया में खबरें आईं कि पाटीदार समुदाय से आने वाले नितिन पटेल मनमाफिक पोर्टफोलियो नहीं मिलने से नाराज हैं।
- पिछली सरकार में पटेल के पास फाइनेंस, पेट्रोकेमिकल्स, अर्बन डेवलपमेंट, हाउसिंग और नर्मदा जैसे बड़े मंत्रालय थे। इस बार ये नहीं दिए गए। उनकी नाराजगी की वजह यही थी।
- बताया गया कि नाराजगी की वजह से नितिन पटेल सरकारी गाड़ी की जगह पर्सनल कार का इस्तेमाल कर रहे थे। नरेंद्र मोदी और अमित शाह पहले हिमाचल कैबिनेट और बाद में दूसरे कामों में बिजी थे। इस वजह से नितिन का मामला लटकता गया।
- इस बीच, पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने मीडिया से बातचीत में नितिन को दस विधायकों के साथ कांग्रेस में शामिल होने का न्योता दिया। उन्होंने यहां तक कह दिया कि अगर नितिन पटेल कांग्रेस में आते हैं तो उन्हें सीएम बनाया जाएगा।

रूपाणी ने कहा- घी फिर से घी के डिब्बे में मिल गया
- विवाद सुलझने के बाद विजय रूपाणी ने कहा- "पार्टी आलाकमान ने पटेल की भावना को देखते हुए मंत्रियों के विभागों में थोड़ा फेर-बदल कर उन्हें वित्त विभाग देने का फैसला किया है और ऐसा कर दिया गया है। यह मामला अब सुलझ गया है।"

- "घी वापस घी के कनस्तर में आ गया है, बड़े परिवार में ऐसी छोटी-छोटी बातें होती रहती हैं। पिछले दो दिन में जो हुआ, उससे विरोधियों के मुंह में पानी आ गया था (कि बीजेपी की सरकार चली जाएगी और उनकी सरकार बन जाएगी), पर यह मंसूबा विफल हो गया।"

बीजेपी के लिए क्यों अहम हैं नितिन पटेल?
- गुजरात में पिछली सरकार के दौरान पाटीदार आरक्षण आंदोलन काफी बढ़ा था। हार्दिक पटेल ने हालिया असेंबली इलेक्शन में बीजेपी के लिए दिक्कतें खड़ी की थीं। हार्दिक ने कांग्रेस को समर्थन दिया था।
- बीजेपी इस इलेक्शन में बमुश्किल सरकार बना पाई। उसे 99 सीटें मिलीं। पिछली बार से 16 कम। नितिन पटेल पाटीदार समुदाय से आते हैं। बीजेपी के लिए वो पाटीदार नेताओं का बड़ा चेहरा हैं। इसलिए पार्टी उन्हें नाराज नहीं करना चाहती। इसी वजह से खुद अमित शाह ने नितिन पटेल को मनाया।

चार्ज मिलने के बाद अपने ऑफिस में नितिन पटेल। चार्ज मिलने के बाद अपने ऑफिस में नितिन पटेल।
पसंद के मुताबिक विभाग नहीं मिलने से नाराज नितिन ने चार्ज नहीं लिया था। पसंद के मुताबिक विभाग नहीं मिलने से नाराज नितिन ने चार्ज नहीं लिया था।
X
नितिन पटेल ने विधिवत पूजा-पाठ कर पदभार संभाल लिया।नितिन पटेल ने विधिवत पूजा-पाठ कर पदभार संभाल लिया।
चार्ज मिलने के बाद अपने ऑफिस में नितिन पटेल।चार्ज मिलने के बाद अपने ऑफिस में नितिन पटेल।
पसंद के मुताबिक विभाग नहीं मिलने से नाराज नितिन ने चार्ज नहीं लिया था।पसंद के मुताबिक विभाग नहीं मिलने से नाराज नितिन ने चार्ज नहीं लिया था।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..