--Advertisement--

हीरा लुटेरा अर्जुन आयोजित कर रहा था रोजगार मेला, मंत्री कानाणी थे चीफ गेस्ट

20 करोड़ का हीरा लूटकांड: खुद को बचाने के लिए बड़े लोगों से बढ़ाता था नजदीकियां

Danik Bhaskar | Mar 20, 2018, 03:44 AM IST
पहली तस्वीर दो साल पहले वराछा के योगी चौक की है। रोजगार मेले में अर्जुन (घेरे में ) के साथ हैं मेयर अस्मिता बेन शिरोया और डायमंड एसोसिएशन के तत्कालीन प्रमुख दिनेश भाई नावड़िया। पहली तस्वीर दो साल पहले वराछा के योगी चौक की है। रोजगार मेले में अर्जुन (घेरे में ) के साथ हैं मेयर अस्मिता बेन शिरोया और डायमंड एसोसिएशन के तत्कालीन प्रमुख दिनेश भाई नावड़िया।

सूरत. ग्लो स्टार मैन्युफैक्चरिंग हीरा कंपनी के 20 करोड़ रुपए के हीरे लूटने का आरोपी अर्जुन उर्फ अरविंद पांडे बड़े-बड़े लोगों से संबंधों का दिखावा करता था। खुद को बचाने के लिए इसके आधार पर उसने हीरा कारोबारियों और अन्य लोगों के बीच पैठ बना ली थी। वह एनजीओ भी चलाता था। इसी 18 मार्च को उसने रोजगार मेले का आयोजन किया था, जिसमें प्रदेश सरकार के स्वास्थ्य राज्य मंत्री को चीफ गेस्ट और ज्वाइंट पुलिस कमिश्नर को मुख्य संरक्षक बनाया था। भाजपा नेता व पूर्व केंद्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूड़ी और मेयर अस्मिताबेन शिरोया के साथ उसकी तस्वीरें भी सामने आई हैं। अर्जुन सिक्योरिटी एजेंसी भी शुरू करने वाला था। वह 23 मार्च तक पुलिस रिमांड पर जेल में है।


- अर्जुन अमरेली की एक संस्था के साथ मिलकर स्किल इंडिया नाम से संस्था चलाता था। दावा है कि यह संस्था युवाओं को कॅरियर के लिए मार्गदर्शन देती है और रोजगार दिलाने में मदद करती है।

- अर्जुन ने बाद में दिल्ली के एक अन्य चार्टर्ड एकाउंटेंट के साथ मिलकर अलाइट फाउंडेशन के नाम से अपना एनजीओ शुरू कर दिया। इसमें उसकी पत्नी भी ट्रस्टी है। अर्जुन वराछा के एसएमसी कम्युनिटी हॉल में 18 मार्च को रोजगार मेला आयोजित करने वाला था।

- इसके लिए जो आमंत्रण कार्ड बांटे गए थे, उसमें गुजरात सरकार के स्वास्थ्य राज्य मंत्री किशोर कानाणी (कुमार) का नाम बतौर मुख्य अतिथि और ज्वाइंट पुलिस कमिश्नर हरिकृष्ण पटेल का नाम मुख्य संरक्षक के तौर पर लिखा हुआ है।

- वहीं, मेयर शिरोया, जेम्स एंड ज्वेलरी एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल जीजेईपीसी के रीजनल चेयरमैन दिनेश नावडिया, गुजरात भाजपा के जनरल सेक्रेटरी दर्शनीबेन कोठिया, पूर्व मंत्री करसनभाई पटेल और अन्य प्रमुख मेहमान थे।

अरबों के हीरे का जिस प्रिन्सेस प्लाजा में रोज कारोबार होता है, उसका मेंटेनेंस मैनेजर भी रह चुका है

धीरेन्द्र पाटिल: अर्जुन पांडे प्रिन्सेस प्लाजा का मेंटेनेंस मैनेजर रह चुका है। यहां हीरा व्यापारियों के ऑफिस है। जीजेईपीसी के रीजनल चेयरमैन और डायमंड एसो. के पूर्व प्रमुख दिनेश नावडिया ने बताया कि यहां रोज अरबों रुपए के हीरे का कारोबार होता है। प्लाजा का निर्माण 1995-96 में जिस कॉन्ट्रेक्टर ने किया था, उसके अंडर अर्जुन काम करता था। उसने धीरे-धीरे बिल्डर का विश्वास जीत लिया। खरीदारों को ऑफिस दिखाने और मोल-भाव का काम वही करता था। 2006-2007 में अर्जुन को बिल्डिंग का मेंटेनेंस मैनेजर बना दिया गया। उसे हीरा व्यापारियों के बारे में पूरी जानकारी थी। 2012-2013 में उसने यहां स्किल डेवलपमेंट ऑफिस शुरू किया। प्लाजा में भी 5 महीने पहले अर्जुन ने साथियों के साथ मिलकर लूट की थी।

कार्यक्रम के दिन पता चला: जेसीपी पटेल

जेसीपी हरिकृष्ण पटेल ने निमंत्रण कार्ड में उनका नाम होने पर आश्चर्य जताया। उन्होंने कहा, मुझे तो कार्यक्रम के दिन 18 मार्च को पता चला कि कार्ड में मेरा भी नाम है। मैं अर्जुन को नहीं जानता। इसकी जानकारी मिलते ही मैंने मंत्री कानाणी समेत कुछ और आमंत्रितों को कार्यक्रम में शामिल नहीं होने को कहा था।

एक अन्य कार्यक्रम में भाजपा नेता और पूर्व केन्द्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूड़ी के साथ मंच पर लूट का आरोपी अर्जुन। एक अन्य कार्यक्रम में भाजपा नेता और पूर्व केन्द्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूड़ी के साथ मंच पर लूट का आरोपी अर्जुन।