--Advertisement--

हार्दिक पर साथी का ही आरोप- आंदोलन के पैसे से कई शहरों में खरीदे फ्लैट, पीते हैं शराब

पाटीदार आरक्षण आंदोलन (पास) में मचे घमासान में कन्वीनर आए आमने-सामने।

Dainik Bhaskar

Dec 30, 2017, 05:11 AM IST
दिनेश बांभनिया कुछ वक्त पहले तक हार्दिक पटेल के सबसे करीबी नेताओं में से एक थे।  - फाइल फोटो। दिनेश बांभनिया कुछ वक्त पहले तक हार्दिक पटेल के सबसे करीबी नेताओं में से एक थे। - फाइल फोटो।

गांधीनगर. पाटीदार अनामत आंदोलन समिति (पास) नेता हार्दिक पटेल के खिलाफ अब उनके एक और साथी ने गंभीर आरोप लगाए हैं। राजद्रोह के एक मामले में उनके (हार्दिक) के साथ सह-आरोपी दिनेश बांभणिया ने खुलासा किया है कि हार्दिक ने हाल ने आंदोलन के लिए इकट्ठा किए गए धन से अपने लिए कई शहरों में फ्लैट खरीदे हैं। इतना नहीं, उन्होंने हाल में गुजरात विधानसभा चुनाव में बिना किसी को भरोसे में लिए कांग्रेस के साथ टिकटों की सौदेबाजी की थी।

सेक्स सीडी को लेकर भी उठाए सवाल

- पास के शनिवार से बोटाद में होने जा रहे कथित चिंतन शिविर से एक दिन पहले दिनेश ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में यह आरोप लगाए हैं। उन्होंने 30 लोगों की एक लिस्ट भी जारी की और दावा किया कि इनके लिए हार्दिक ने कांग्रेस से गुपचुप टिकटों की मांग की थी।

- उन्होंने आरोप लगाया था कि हार्दिक ने आंदोलन के पैसे से अहमदाबाद, वीरमगाम, सूरत, वडोदरा, भरूच समेत दूसरे शहरों में कई फ्लैट खरीदे हैं।

- उन्होंने कहा कि हार्दिक ने उनके और उनके करीबियों की सेक्स सीडी को षडयंत्र बताया था, पर अब तक इस मामले में कोई पुलिस में शिकायत क्यों नहीं दर्ज कराई है। वह दिन में मां-बहनों की रक्षा की बात करते हैं और रात को शराब पीकर खुद ही अय्याशी करते हैं।

मारे गए पाटीदरों के परिजनों को हार्दिक पैसा कब देंगे?

- दिनेश ने कहा कि वह यह भी जानना चाहते हैं कि आरक्षण आंदोलन में मारे गये 13 पाटीदारों के नाम पर जमा किए गए पैसे उनके परिजनों को हार्दिक कब देंगे।

- पास की नई कोर कमेटी बनाने का क्या मतलब है? इसके नेता एक-एक कर क्यों संगठन छोड़ रहे हैं?

मुझे खामोश करना है तो गोली मार दो : हार्दिक पटेल

- हार्दिक पटेल ने शुक्रवार को कहा कि आने वाले वक्त में उनके खिलाफ इनकम टैक्स कानून के तहत कई मामले दर्ज किए जा सकते हैं।

उन्होंने कहा- "मेरी आवाज को केवल मेरी हत्या करके ही खामोश किया जा सकता है।"

पास का चिंतन शिविर आज से

- पास का बोटाद में चिंतन शिविर शुरू हो रहा है। इसमें पाटीदार बहुल इलाकों में बीजेपी की जीत समेत गुजरात विधानसभा चुनाव के परिणाम पर चर्चा होगी। इस बैठक में हंगामा होने की आशंका के चलते केवल चुनिंदा लोगों को ही एंट्री की अनुमति दी जा रही है।

गुजरात चुनाव से पहले पास के सह-संयोजक दिनेश बांभणिया ने पार्टी से इस्तीफा दिया था।   - फाइल फोटो। गुजरात चुनाव से पहले पास के सह-संयोजक दिनेश बांभणिया ने पार्टी से इस्तीफा दिया था। - फाइल फोटो।
X
दिनेश बांभनिया कुछ वक्त पहले तक हार्दिक पटेल के सबसे करीबी नेताओं में से एक थे।  - फाइल फोटो।दिनेश बांभनिया कुछ वक्त पहले तक हार्दिक पटेल के सबसे करीबी नेताओं में से एक थे। - फाइल फोटो।
गुजरात चुनाव से पहले पास के सह-संयोजक दिनेश बांभणिया ने पार्टी से इस्तीफा दिया था।   - फाइल फोटो।गुजरात चुनाव से पहले पास के सह-संयोजक दिनेश बांभणिया ने पार्टी से इस्तीफा दिया था। - फाइल फोटो।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..