सूरत

--Advertisement--

लेडी जज ने सरकारी अस्पताल में कराई खुद की डिलिवरी, दिया बच्चे को जन्म

राजस्थान की रहने वाली चित्रा रतनू 2011 में गुजरात ज्यूडिक्शन सर्विसेस में 2011 में सिलेक्ट हुईं।

Danik Bhaskar

Feb 13, 2018, 06:53 AM IST

आणंद. डिस्ट्रिक्ट जज चित्रा रत्नू ने किसी मल्टी स्पेशिएलिटी हॉस्पिटल की बजाय प्रायमरी हेल्थ सेंटर में रविवार को खुद की डिलिवरी कराई और बच्चे को जन्म दिया। ऐसा उन्होंने लोगों को सरकारी सुविधाओं के प्रति भरोसा दिलाने के लिए किया। जज चित्रा रत्नू ने बताया "मैं हेल्थ रिलेटेड प्रॉब्लम्स के लिए सरकारी अस्पताल या हेल्थ सेंटर में ही जाती हूं। सरकारी डॉक्टर का कोई स्वार्थ न होने की वजह से वह सही सलाह देते हैं। इसके अलावा सारसा सेंटर में हर महीने 120 से ज्यादा डिलिवरी होती हैं। डॉक्टर और स्टाफ काफी एक्सपीरियंस्ड हैं।"

पिता के ट्रांसफर के साथ ही चित्रा के स्कूल और कॉलेज भी बदलते रहे

- मूलत. राजस्थान की रहने वाली चित्रा रतनू 2011 में गुजरात ज्यूडिक्शन सर्विसेस में 2011 में सिलेक्ट हुईं। वे जैसलमेर जिले के पोकरण इलाके के बुधकरण रतनू की बेटी हैं। उनकी शुरुआती पढ़ाई अपने गांव में ही हुई। उनके पिता एयरफोर्स में थे इसलिए पिता के ट्रांसफर के साथ ही उनके स्कूल और कॉलेज भी बदलते रहे।

बचपन से लेकर तमाम एग्जाम में हमेशा अव्वल रही हैं

- चित्रा बचपन से लेकर तमाम एग्जाम में हमेशा अव्वल रही हैं। उन्होंने 2006 में जैसलमेर से बी.एससी. फर्स्ट डिविजन से पास की। उन्होंने राजस्थान यूनिवर्सिटी जयपुर से 2009 में लॉ का एग्जाम बेहतर मार्क्स के साथ पास किया था। चित्रा के दादा भंवरदान रतनू बारठ का गांव ग्राम पंचायत के लगभग 15 साल तक सरपंच रहे थे।

- चित्रा के पति अमित प्रकाश हरियाणा के हरियाणा के रेवाड़ी के रहने वाले हैं। उनका परिवार उत्तर प्रदेश के कन्नौज में रहता है।

पति हैं डिस्ट्रिक्ट डेवलेपमेंट ऑफिसर

उनके पति अमित प्रकाश आणंद के डिस्ट्रिक्ट डेवलेपमेंट ऑफिसर (डीडीओ) हैं। अमित ने बताया कि- हमारा एक्सपीरियंस बहुत अच्छा रहा है। निजी अस्पताल में अच्छा इलाज अौर फैसिलिटी मिलती है, लेकिन सरकारी अस्पताल की सर्विसेस अच्छी न होने की इमेज टूटनी चाहिए। गवर्नमेंट हेल्थ सेंटर में सभी फैसिलिटी मुहैया हैं।

Click to listen..