--Advertisement--

किराया बचाने दुकान को ही बनाया घर, गैस से भड़की आग में जिंदा जल गया परिवार

शटर को तोड़ कर खोला तब दुकान में धुंए के अलावा कुछ नजर नहीं आ रहा था।

Danik Bhaskar | Jan 10, 2018, 12:55 AM IST
गुजरात के अहमदाबाद में हुआ हादसा- हादसे में पूजा(बच्ची) की मां की मौत के बाद माैसी ने संभाला। गुजरात के अहमदाबाद में हुआ हादसा- हादसे में पूजा(बच्ची) की मां की मौत के बाद माैसी ने संभाला।

अहमदाबाद. मंगलवार सुबह किराने की दुकान में आग भड़कने से एक ही परिवार के चार लोगों की मौत हो गई। मरने वालों में दुकान चलाने वाले पति-पत्नी, उसका भाई और दो साल का बच्चा शामिल है। उनकी बेटी दो दिन से अपनी बुआ के घर होने की वजह से इस हादसे से बच गई। मकान का किराया बचाने दुकान को ही बनाया आशियाना...

- पीड़ित परिवार राजस्थान में पाली का रहने वाला है। सात साल पहले बेटी की अच्छा एजूकेशन दिलाने चुनीलाल चौधरी अपने परिवार को लेकर अहमदाबाद आया था। यहां रहने वाले बहनोई की दुकान को किराए पर लिया।

- वरदान टावर में 'क्षेमाकरी माता' नाम से (10X30) की किराए की दुकान में किराने का धंधा करना शुरू कर दिया। इसी दुकान के पीछे ही परिवार रहता था ताकि मकान का किराया बच सके।

आग में झुलसी महिला की दुकान का शटर खोलने की कोशिश रही बेकार

आग लगने की वजह गैस लीकेज मानी जा रहा है। आशंका है कि गैस लीकेज से अनजान परिवार में से किसी ने सुबह गैस जलाई होगी, तभी आग भड़क गई और सब राख हो गया। दुकान में सामान भरा होने की वजह से गैस की बू न आई हो। आग में झुलसी महिला ने दुकान का शटर खोलने की कोशिश की, लेकिन कामयाब न हो सकी।

शटर तोड़कर अंदर घुसी रेस्क्यू टीम

दुकान में वेंटीलेशन और शटर से बाहर निकलने का कोई दूसरा रास्ता न होने की वजह से परिवार खुद का बचाव नहीं कर सके। दुकान में आग लगने की बात सुबह सात बजे तब पता चली, जब एक महिला दुकान पर पहुंची।

उसने शटर से धुआं निकलता देख शोर मचाया। सूचना मिलने पर फायर ब्रिगेड मौके पर पहुंची। शटर को तोड़कर खोला तब दुकान में धुंए के अलावा कुछ नजर नहीं आ रहा था।

बुआ के घर होने से बच गई बेटी

मृतकों की पहचान चुनीलाल चौधरी (35), लीलाबहन चौधरी (33), अर्जुन चौधरी (2) और मोहनराम चौधरी (30) के रूप में हुई है। बेटी पूजा बुआ के घर होने से बच गई। वहीं, चुन्नीलाल और उसका छोटा भाई मोहन के साथ किराना दुकान चलाते थे। मोहन रोज अपने घर चला जाता था। सोमवार की रात पहली बार यहां सोया था और सुबह उसकी लाश मिली।

वरदान टावर की दुकान में हुआ ये भयानक हादसा। वरदान टावर की दुकान में हुआ ये भयानक हादसा।
मौक पर पहुंची टीम ने पीछे की साइड से दीवार तोड़कर अाग बुझाने की कोशिश की। मौक पर पहुंची टीम ने पीछे की साइड से दीवार तोड़कर अाग बुझाने की कोशिश की।
इसी दुकान के पीछे ही परिवार रहता था ताकि मकान का किराया बच सके। इसी दुकान के पीछे ही परिवार रहता था ताकि मकान का किराया बच सके।
शटर को तोड़ कर खोला तब दुकान में धुंए के अलावा कुछ नजर नहीं आ रहा था। शटर को तोड़ कर खोला तब दुकान में धुंए के अलावा कुछ नजर नहीं आ रहा था।
सूचना मिलने पर मौक पर पहुंच फायर ब्रिगेड ने बुझाई आग। सूचना मिलने पर मौक पर पहुंच फायर ब्रिगेड ने बुझाई आग।
आग लगने की वजह गैस लीकेज मानी जा रही है। आग लगने की वजह गैस लीकेज मानी जा रही है।
मरने वालों में दुकान चलाने वाला दंपती, उसका भाई और दो साल का बच्चा शामिल है। मरने वालों में दुकान चलाने वाला दंपती, उसका भाई और दो साल का बच्चा शामिल है।