सूरत

--Advertisement--

पांच दिन बाद वकीलों ने खत्म की हड़ताल, सोमवार से नई कोर्ट में शुरू होगा कामकाज

सीनियर वकील कौशिक भट्‌ट सहित वकीलों के समझाने के बाद अंतत: आंदोलन को खत्म किया गया।

Danik Bhaskar

Mar 24, 2018, 02:27 AM IST

वडोदरा. वडोदरा की नई अदालत में बैठक व्यवस्था को लेकर पांच दिनों से चल रही वकीलों की हड़ताल शुक्रवार को खत्म हो गई। आमरण अनशन पर बैठे वकीलों को पारणा कराया गया। सोमवार से नई कोर्ट में कामकाज शुरू होगा।


ज्ञातव्य है कि वडोदरा की नई कोर्ट में बैठक व्यवस्था न होने के कारण वकील हंगामा करते हुए हड़ताल पर उतर गए थे। वकील पिछले चार दिनों से आमरण अनशन कर रहे थे। इस दौरान कई वकीलों की हालत बिगड़ गई। तबियत बिगड़ते देख वकीलों ने हड़ताल वापस लेने का निर्णय लिया। वकीलों की हड़ताल खत्म होने के बाद सोमवार से कोर्ट में कामकाज शुरू होगा। सोमवार को वकील मंडल की बैठक में इस मुद्दे पर चर्चा करने के बाद चीफ जस्टिस को प्रस्ताव सौंपा जाएगा।

शुक्रवार को ईजीएम की बैठक में भारी संख्या में वकील मौजूद रहे। हंगामे के बीच हड़ताल खत्म करने का निर्णय लिया गया। सीनियर वकील कौशिक भट्‌ट सहित वकीलों के समझाने के बाद अंतत: आंदोलन को खत्म किया गया।

वकीलों ने कहा कि साेमवार से वकील बैठक व्यवस्था के मुद्दे पर कोर्ट के कामकाज से साथ विरोध चालू रखेंगे। वकील रूम में ताला लगाकर चाबी डिस्ट्रिक्ट जज को सौंपी जाएगी। दोपहर में वकील एक जगह इकट्‌ठा होकर बैठक व्यवस्था पर चर्चा करेंगे।

आमरण उपवास पर उतरे वकीलों को जूस पिलाया, सीनियर वकील रो पड़े

पिछले पांच दिनों से एडवोकेट हितेश गुप्ता सहित पांच वकील आमरण उपवास पर उतरे थे। शुक्रवार को सभी वकीलों को पारणा कराया गया। पारणा करते समय एक सीनियर वकील रो पड़े। उन्हें देखकर सभी वकील रोने लगे।

दो कमेटी बनेगी, वही निर्णय लेगी : अध्यक्ष
वकील मंडल के अध्यक्ष नलिन पटेल ने बताया कि गुरुवार को हाईकोर्ट के न्यायाधीया के साथ बैठक होने के बाद शुक्रवार को हड़ताल खत्म करने का निर्णय लिया गया। दो कमेटी का गठन किया जाएगा। एक कमेटी में पांच सीनियर वकील कौशिक भट्ट, शैलेष पटेल, भूमिकाबेन त्रिवेदी, दिलीप नानावटी और अतुल मेहता होंगे। यह कमेटी हाईकोर्ट के न्यायाधीश के साथ बैठक व्यवस्था पर चर्चा करेगी। दूसरी कमेटी में पांच सीनियर वकील होंगे जो बैठक व्यवस्था और जगह के बारे में विचार-विमर्श करेंगे। वडोदरा कोर्ट में महेसाणा कोर्ट की तरह टेबल लगाने का प्रयास किया जा सकता है।

Click to listen..