--Advertisement--

गुजरात : II फेज में 93 सीटों पर 69.99 % वोटिंग, 10 से ज्यादा बूथों पर रीवोटिंग मुमकिन

मतदान का वास्तविक प्रतिशत चुनाव आयोग के प्रारंभिक अनुमान 68.70 % से ज्यादा है।

Danik Bhaskar | Dec 16, 2017, 05:17 AM IST

गांधीनगर. गुजरात विधानसभा चुनाव के दूसरे और अंतिम चरण में गुरुवार को 14 जिलों की 93 सीटों पर हुए मतदान का वास्तविक प्रतिशत 69.99 है जो चुनाव आयोग के प्रारंभिक अनुमान 68.70 प्रतिशत से अधिक है।
मुख्य निर्वाचन अधिकारी बीबी स्वैन ने शुक्रवार को दूसरे चरण के संशोधित वास्तविक आंकड़े जारी किए। नौ दिसंबर को पहले चरण में 19 जिलों की 89 सीटों पर आयोग के शुरूआती अनुमान 68 प्रतिशत की तुलना में कम वास्तविक मतदान 66.75 प्रतिशत हुआ था। इस तरह इस साल विधानसभा चुनाव के दोनों चरणों का औसत 68.36 प्रतिशत है जबकि वर्ष 2012 के पिछले चुनाव में यह रिकार्ड 71.30 प्रतिशत था। तब पहले चरण में 70.75 प्रतिशत और दूसरे चरण में 71.85 प्रतिशत मतदान हुआ था।

बनासकांठा में सबसे अधिक 75.25%, सबसे कम 65.45% महीसागर में मतदान

- स्वेन ने बताया कि दूसरे चरण में इस बार सबसे अधिक 75.25 प्रतिशत मतदान बनासकांठा जिले में जबकि, सबसे कम 65.45 महीसागर जिले में हुआ है। विधानसभावार सर्वाधिक बनासकांठा के थराद में 85.53 प्रतिशत तथा सबसे कम दाहोद के गरबाडा (आदिवासी सुरक्षित) में 53.96 प्रतिशत हुआ है।

- पहले चरण में नर्मदा जिले मे सर्वाधिक 79.15 प्रतिशत और देवभूमि द्वारका जिले में सबसे कम 59. 39 प्रतिशत मतदान हुआ था। विधानसभावार सबसे अधिक मतदान नर्मदा जिले के देडियापाड़ा (आदिवासी सुरक्षित) सीट पर 84. 63 प्रतिशत और सबसे कम कच्छ जिले की गांधीधाम (अनुसूचित जाति सुरक्षित) सीट पर 54.18 प्रतिशत हुआ था।

10 से अधिक बूथों पर पुनर्मतदान की संभावना
- दूसरे चरण की 93 सीटों पर मतदान होने के बाद 10 सीटों पर फिर से मतदान होने की संभावना है। राज्य चुनाव आयोग ने इन बूथों की दर्खास्त केंद्रीय निर्वाचन आयोग को भेज दी है। इस पर केंद्रीय निर्वाचन आयोग निर्णय लेगा।

- वडगांव के एक बूथ पर ईवीएम पर उम्मीदवार जिग्नेश मेवाणी के नाम के सामने पेन से निशान बनाने का मामला सामने आया है। इसके अलावा अन्य बूथों पर छोटी-मोदी घटनाओं, ईवीएमअौर वीवीपैट के मोकपोल के वोट डिलीट न करने के कारण पुनर्मतदान की संभावना है।

दोनों चरणों में 1828 प्रत्याशी थे मैदान में

विधानसभा की 182 सीटों के लिए दोनों चरणों को मिला कर कुल 1828 प्रत्याशी मैदान में हैं। सत्तारूढ़ भाजपा ने सभी सीटों पर जबकि मुख्य विपक्षी कांग्रेस ने 178 प्रत्याशी मैदान में उतारे हैं। मुख्यमंत्री विजय रूपाणी, उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल, भाजपा अध्यक्ष जीतू वाघाणी, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शक्तिसिंह गोहिल, अर्जुन मोढवाडिया और सिद्धार्थ पटेल की भी किस्मत दांव पर लगी है।