--Advertisement--

गुजरात: 800 मंदिरों में पानी से नहीं, फूलों से खेली जाएगी होली

पानी बचाने को स्वामीनारायण संप्रदाय ने की पहल

Danik Bhaskar | Feb 28, 2018, 03:30 AM IST

अहमदाबाद. गुजरात में जल संकट से उबरने में मंदिरों ने पहल की है। स्वामीनारायण संप्रदाय के 800 मंदिरों ने पानी नहीं, फूल-अबीर-गुलाल से ही होली खेलने का फैसला किया है। सामान्यत: हर साल मंदिरों में होने वाले पुष्पदोलोत्सव के तहत होली मनाई जाती है। इसमें पानी का प्रयोग होता था।

दूसरी ओर, अहमदाबाद महानगर पालिका (मनपा) ने भी भास्कर के तिलक होली अभियान से प्रेरित हो शहर के निजी क्लब को होली में पानी का प्रयोग न करने की ताकीद करने का मन बनाया है। क्लबों को रेन डांस सरीखे आयोजनों के लिए पानी नहीं दिया जाएगा।

फूलों से मनाएंगे होली
विश्वभर में अक्षरधाम मंदिर बनाने वाले बीएपीएस संस्थान के प्रवक्ता अक्षरवत्सल स्वामी का कहना है कि राज्य में जल संकट है। इसलिए संस्थान ने पुष्पदोलोत्सव सादगी से मनाने का निर्णय किया है। हमने अपने हर मंदिर को पानी के उपयोग के बिना होली पर्व मनाने को कहा है।