--Advertisement--

कोस्ट गार्ड टीम में शामिल हुई इंटरसेप्टर नौका सी-437, समुद्र की सुरक्षा बढ़ेगी

Dainik Bhaskar

Mar 18, 2018, 05:16 AM IST

समुद्र में मछली पकड़ने वाली नाव और मछुआरों को बचाने में यह बोट काफी मददगार साबित होगी।

Interceptor boat C-437 joining Coast Guard team

पोरबंदर. समुद्र में विभिन्न गतिविधियों की निगरानी, गश्ती और राहत एवं बचाव समेत विभिन्न कार्यो में उपयोगी बहुपयोगी इंटरसेप्टर नौका सी- 437 को शनिवार को विधिवत भारतीय तटरक्षक दल में सम्मिलित कर लिया गया।लगभग 28 मीटर लंबे और 45 समुद्री मील प्रति घंटे तक की रफ्तार से चलने में सक्षम इस नौका में अत्याधुनिक नौवहन और संचार उपकरण लगे हैं। यह गुजरात के कच्छ जिले के जखौ तट पर आधारित रहेगा और तटीय गश्ती एवं अन्य गतिविधियों में प्रयुक्त होगा।

- लार्सन एंड टुब्रो लिमिटेड द्वारा निर्मित यह नौका पश्चिमी तट की सुरक्षा को और मजबूत बनाने के प्रयासों के तहत तटरक्षक दल में शामिल की गई है। इसके जरिए समुद्र में घुसपैठ, तस्करी और अवैध तरीके से मछली पकड़ने जैसी गतिविधियों पर भी नजर रखी जा सकेगी।

- तटरक्षक दल के एडीजी के नटराजन ने इसे सम्मिलित करने यानी कमीशन करने की औपचारिकता यहां तटरक्षक जेट्टी पर आयोजित समारोह के दौरान की। कार्यक्रम में एसपी शोभा भूतड़ा सहित नेता, अधिकारी और तट रक्षक दल के जवान मौजूद थे।

कम पानी व गहरे समुद्र में चलने में सक्षम

- गुजरात में समुद्री सीमा को और सुदृढ़ बनाया जा रहा है। जिसके तहत अत्याधुनिक गश्ती जहाज, हेलिकॉप्टर की सुविधाएं भी बढ़ाई जा रही हैं। शनिवार को पोरबंदर कोस्ट गार्ड जेटी से एक और पेट्रोलिंग शिप इंटर सेप्टर सी-437 काे सुरक्षा दल में शामिल किया गया।

- बोट में एक सर्विलेंस, इंटर सेक्शन, सर्च और रेस्क्यू जैसे विभिन्न काम करने की क्षमता है। समुद्र में मछली पकड़ने वाली नाव और मछुआरों को बचाने में यह बोट काफी मददगार साबित होगी।

- सी-437 कम पानी और गहरे समुद्र में भी अासानी से चलेगी। तस्करी रोकने में उपयोगी साबित हाेगी। कुछ समय पहले कोस्ट गार्ड ने पोरबंदर के नजदीक समुद्र से इसी प्रकार की बोट की मदद से भारी मात्रा में हेरोइन पकड़ी थी।

- 28 मीटर लंबाई

- 106 टन वजन

- 45 माइकल स्पीड

Interceptor boat C-437 joining Coast Guard team
X
Interceptor boat C-437 joining Coast Guard team
Interceptor boat C-437 joining Coast Guard team
Astrology

Recommended

Click to listen..