--Advertisement--

जल श्री कृष्ण: नदी पानी से लबालब, फिर भी किनारे बसा गांव है प्यासा

गांव की महिलाएं नदी के किनारे रेती खोदकर रोज पानी भरती हैं।

Danik Bhaskar | Mar 17, 2018, 07:07 AM IST

बहुचराजी(गुजरात). महेसाणा के बहुचराजी से आठ किमी दूर कोठारपुरा गांव रूपेण नदी के किनारे बसा होने के बावजूद पानी के लिए तड़प रहा है। गांव की आबादी 500 है। गांव की महिलाओं को सुबह सोकर उठते ही पानी की चिंता सताने लगती है। रूपेण नदी पानी से लबालब होने के बावजूद उसके किनारे बसे कोठारपुरा गांव को पीने का पानी नहीं मिल रहा है। गांव की महिलाएं नदी के किनारे रेती खोदकर रोज पानी भरती हैं।