--Advertisement--

मां और बहन के साथ थी 4 साल की बच्ची, 15 फीट गहरे मेनहोल में जा गिरी

बच्ची थोड़ा पीछे खिसकी और सीधे मेनहोल में जा गिरी।

Dainik Bhaskar

Jan 08, 2018, 04:06 AM IST
बच्ची के गड्ढे में गिरते ही वहां लोगों की भीड़ लग गई। बच्ची के गड्ढे में गिरते ही वहां लोगों की भीड़ लग गई।

सूरत. गुजरात के पालनपुर में शनिवार को हुए हादसे के बाद एक 4 साल की बच्ची की जान पर बन आई। दरअसल अपनी मां और बड़ी बहन के साथ जा रही बच्ची एक 15 फीट गहरे मेनहोल में जा गिरी, लेकिन उसी वक्त वहां से गुजर रहे एक शख्स ने बहादुरी दिखाते हुए उसे बचाने का फैसला लिया। वह तुरंत उस गड्ढे में कूदा और लोगों की मदद से बच्ची को बचाकर ऊपर ले आया।

थोड़ा सा पीछे खिसकी और सीधे मेनहोल में जा गिरी

- बच्ची क्रिशा अपनी मां और बहन के साथ ऑटो से बाजार गई थी। ऑटो जहां रुका, वहां गटर का 15 फीट गहरा मेनहोल खुला था।

- ऑटो से उतरकर मां ऑटो का किराया दे रही थी, तभी क्रिशा थोड़ी पीछे खिसकी और सीधे मेनहोल में जा गिरी। पता चलते ही लोगों का हुजूम लग गया।

- इसी समय पास से गुजर रहे राहुल माजीराणा भी पहुंचे। मासूम को कीचड़ से भरे गटर में गिरा देखकर वह तुरंत बचाने के लिए अंदर उतर गया। लोगों ने रस्सा देकर मदद की। वह क्रिशा को लेकर रस्से की मदद से बाहर निकले।

- राहुल ने कहा, ‘लोगों का जमघट देखा तो वहां पहुंचा। गटर में गिरी घबराई हुई बच्ची को मैं हर हाल में बचाना चाहता था, इसलिए बगैर समय गंवाए उतर गया।’

कीचड़ से भरे गटर में गिरने से मासूम की जान भी जा सकती थी। कीचड़ से भरे गटर में गिरने से मासूम की जान भी जा सकती थी।
बच्ची क्रिशा अपनी मां और बहन के साथ ऑटो से बाजार गई थी। बच्ची क्रिशा अपनी मां और बहन के साथ ऑटो से बाजार गई थी।
मां की गोद में मासूम क्रिशा। मां की गोद में मासूम क्रिशा।
राहुल माजीराणा ने बहादुरी दिखाते हुए बचाई मासूम की जान। राहुल माजीराणा ने बहादुरी दिखाते हुए बचाई मासूम की जान।
गटर का 15 फीट गहरा यह मेनहोल खुला था। गटर का 15 फीट गहरा यह मेनहोल खुला था।
लोगों ने रस्सा देकर की मदद । लोगों ने रस्सा देकर की मदद ।
बच्ची के गड्ढे में गिरते ही वहां लोगों की भीड़ लग गई। बच्ची के गड्ढे में गिरते ही वहां लोगों की भीड़ लग गई।
X
बच्ची के गड्ढे में गिरते ही वहां लोगों की भीड़ लग गई।बच्ची के गड्ढे में गिरते ही वहां लोगों की भीड़ लग गई।
कीचड़ से भरे गटर में गिरने से मासूम की जान भी जा सकती थी।कीचड़ से भरे गटर में गिरने से मासूम की जान भी जा सकती थी।
बच्ची क्रिशा अपनी मां और बहन के साथ ऑटो से बाजार गई थी।बच्ची क्रिशा अपनी मां और बहन के साथ ऑटो से बाजार गई थी।
मां की गोद में मासूम क्रिशा।मां की गोद में मासूम क्रिशा।
राहुल माजीराणा ने बहादुरी दिखाते हुए बचाई मासूम की जान।राहुल माजीराणा ने बहादुरी दिखाते हुए बचाई मासूम की जान।
गटर का 15 फीट गहरा यह मेनहोल खुला था।गटर का 15 फीट गहरा यह मेनहोल खुला था।
लोगों ने रस्सा देकर की मदद ।लोगों ने रस्सा देकर की मदद ।
बच्ची के गड्ढे में गिरते ही वहां लोगों की भीड़ लग गई।बच्ची के गड्ढे में गिरते ही वहां लोगों की भीड़ लग गई।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..